भदोही: यूपी के भदोही जिले की ज्ञानपुर सीट से बाहुबली विधायक विजय मिश्रा की पत्नी उत्तर प्रदेश विधान परिषद की सदस्य (एमएलसी) राम लली मिश्रा और उनके बेटे विष्णु मिश्रा के खिलाफ कुर्की के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका जिला अदालत ने ख़ारिज कर दी है.Also Read - UP News: 3 लाख रुपए में बेटे को बेचने निकला शख्स, नहीं बिका तो कर दी हत्या

जिला शासकीय अधिवक्ता दिनेश कुमार पांडेय ने शुक्रवार को बताया कि जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनिल कुमार की अदालत ने एमएलसी राम लली और उनके बेटे के खिलाफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा जारी कुर्की आदेश को चुनौती देने वाली याचिका बृहस्पतिवार को यह कहते हुए खारिज कर दी कि सारी कार्रवाई प्रक्रिया के तहत चल रही है, लिहाजा कुर्की को चुनौती देने की याचिका स्वीकार करने के योग्य नहीं है, इसलिए ख़ारिज की जाती है. Also Read - Private Industrial Park in UP: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बनेंगे प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क, बढ़ेगा निर्यात कारोबार

दरअसल, आरोपियों के वकील हंसाराम शुक्ला ने जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनिल कुमार की अदालत में एक याचिका पेश कर कहा था कि राम लली और विष्णु की ज़मानत अर्ज़ी ख़ारिज हो चुकी है और मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है. साथ ही विशेष एमपी एमएलए अदालत ने राम लली की ज़मानत अर्ज़ी को पोषणीय न मानते हुए ख़ारिज कर दिया है लिहाज़ा उन्हें भगोड़ा घोषित नहीं किया जा सकता और संपत्ति की कुर्की भी नहीं की जा सकती. Also Read - UP: 'चाचा' से शादी करने के बाद सुरक्षा मांगने पहुंची छात्रा का पुलिस स्‍टेशन के सामने हुआ मर्डर, अब पुलिसकर्मियों की जांच

ज्ञानपुर सीट से निषाद पार्टी के बाहुबली विधायक मिश्रा, उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ पिछली 4 अगस्त को उनके रिश्तेदार कृष्ण मोहन तिवारी ने संपत्ति हड़पने और कारोबार हथियाने समेत कई गंभीर आरोपों में मुकदमा दर्ज कराया है. इस मामले में विजय मिश्रा को पुलिस ने मध्य प्रदेश से गिरफ्तार किया था. वह इस वक़्त चित्रकूट जेल में बंद हैं.

पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह ने बताया कि इस मामले में आरोपी राम लली मिश्रा और विष्णु मिश्रा फरार है. मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने इन दोनों के विरुद्ध गैरजमानती वारंट जारी किया है. अदालत ने दोनों को भगोड़ा घोषित करते हुए 15 अक्टूबर तक हाज़िर नहीं होने पर संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है.