लखनऊ: यूपी के बागपत जिले में भारतीय किसान यूनियन ने गन्ना किसानों को बकाये का भुगतान नहीं होने पर एक बार फिर सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी है. किसानों ने कहा कि सरकार की ओर से घोषणा करने के बाद भी गन्‍ना भुगतान नहीं किया जा रहा है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने आलमबाग बस अड्डे का किया उद्घाटन, 21 बस स्‍टैंडों के भी आएंगे अच्‍छे दिन

बागपत के बड़ौत में भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने चेतावनी दी है यदि गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान जल्द नहीं किया जाता है और किसानों की समस्याओं को दूर नहीं किया जाता है तो फिर उद्योग धंधे भी नहीं चलेंगे. उन्होंने कहा कि बिजली के दाम बढ़ा दिए गए हैं जिससे किसान परेशान हैं. इस किसान आंदोलन की रूपरेखा हरिद्वार में 16 से 18 जून तक होने जा रहे किसान सम्मलेन में तय की जाएगी.

किसान अब भूख हड़ताल नहीं संघर्ष करेगा
दरअसल, बागपत की बड़ौत तहसील में करीब 20 दिन से किसान गन्ने के बकाये मूल्य का भुगतान करने और बिजली के बढ़े दामों के खिलाफ धरने पर बैठे थे. टिकैत ने कहा कि अब किसान भूख हड़ताल नहीं करेगा, बल्कि संघर्ष करेगा. उन्होंने आरोप लगाया कि बागपत की मलखपुर चीनी मिल और मोदीनगर मिल भुगतान करने को तैयार नहीं है, इसलिए वहां ताले डालने पड़ेंगे.