लखनऊ: पेट्रोल एवं डीजल की बढ़ती कीमतों और महंगाई के विरोध में कांग्रेस के आह्वान पर उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में भारत बंद का आंशिक असर दिखाई दे रहा है. विपक्षियों के बंद को देखते हुए सरकार की तरफ से सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं.

 

इस बीच लखनऊ में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर, विधायक आराधना शुक्ला सहित अन्य कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने सुबह हजरतगंज स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर में माथा टेककर आंदोलन की शुरुआत की. इसके बाद कांग्रेसियों ने पेट्रोल पंपों पर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया है. भाजपा सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए कांग्रेसी पेट्रोल पंपों पर पहुंचे और वहीं धरने पर बैठकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं, जो पेट्रोल पंप खुले हैं, कांग्रेस कार्यकर्ता उन्हें बंद करा रहे हैं.

 

लखनऊ में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद
प्रदर्शन को देखते हुए पूरे लखनऊ में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद है. हजरतगंज में रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) के जवान तैनात हैं. इनके अलावा जगह-जगह पुलिस भी मुस्तैद है. वहीं, लखनऊ के अलावा अन्य जिलों में भी भारत बंद का मिला जुला असर दिखाई दे रहा है. अमेठी में कांग्रेसियों ने जुलूस निकालकर दुकानें बंद करा दीं. केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पेट्रो पदार्थो के बढ़े मूल्यों पर विरोध जताया. वाराणसी में भी इसका आंशिक असर दिखाई दिया.

भारत बंद जनता के कष्ट से बेखबर आत्ममुग्ध मोदी सरकार को जगाने के लिए है: राजब्‍बर

कांग्रेस के ‘भारत बंद’ को समाजवादी पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल का समर्थन
गौरतलब है कि कांग्रेस के ‘भारत बंद’ को समाजवादी पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल का समर्थन मिला है. ये दोनों दल अपने तरीके से पेट्रो उत्पादों की मूल्य वृद्घि व महंगाई पर विरोध जताएंगे. इस प्रदर्शन से एक दिन पहले रविवार को राज बब्बर ने कहा था कि पेट्रोल एवं डीजल की बढ़ती कीमतों, महंगाई और राफेल खरीद में घोटाले जैसे मुद्दों पर भाजपा ने राष्ट्रीय कार्यसमिति में चर्चा न करके देश जनता के मुंह पर तमाचा मारा है.