लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार का सोमवार को एक साल पूरा गया. इस मौके पर योगी सरकार द्वारा जश्न मनाया गया. साल पूरा होने पर लोक भवन में ‘एक साल, नई मिसाल’ नाम से रंगारंग कार्यक्रम आयोजित हुए. इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकार की एक साल की उपलब्धियों का बखान किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि आने वाले समय में जल्द ही 64 सरकारी विभागों में खाली पड़े चार लाख पदों पर भर्तियां की जाएंगी. उन्होंने कहा कि हम समाज के हर वर्ग के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं. इस दौरान सीएम के अलावा डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, दिनेश चंद्र शर्मा सहित अन्य नेता मौजूद रहे. इस दौरान पार्टी नेताओं ने उपचुनाव में मिली हार को मामूली बताया. उन्होंने कहा कि एक-दो चुनाव हारने से घबराना नहीं चाहिए.

ये भी पढ़ें: यूपी में भाजपा के लिए रेड सिग्नल है SP-BSP गठजोड़, 2019 में 27 सीटों पर सिमट सकती है पार्टी

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार बनने के बाद हुए 15 लोकसभा उपचुनाव, सिर्फ 2 में मिली जीत

‘हमने सबसे पहले किया किसानों का कर्ज माफ’

इस दौरान डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि प्रदेश में बीजेपी सरकार के गठन के बाद से सबसे पहले किसानों का कर्ज माफ किया गया. हमने किसानों को प्राथमिकता दी. प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे ने कहा कि पार्टी जवानों किसानों और नौजवानों के हित में कार्य कर रही है. गोरखपुर व फूलपुर लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनावों में मिली हार को मामूली बताया. उन्होंने कहा कि एक-दो चुनाव हारने से घबराना नहीं चाहिए.

ये भी पढ़ें: यूपी में करारी हार के बाद अब अपनों का वार, सीएम योगी पर हमले शुरू

बता दें कि 11 मार्च, 2017 को यूपी विधानसभा के आए चुनाव के नतीजों में बीजेपी ने बड़ी जीत हासिल की थी. बीजेपी को सहयोगियों के साथ मिलकर 324 सीटों पर जीत मिली थी. इस चुनाव में सपा को सार्वजनिक रूप से हुए पारिवारिक झगड़े का भारी नुकसान उठाना पड़ा था. सपा-कांग्रेस गठबंधन को सिर्फ 54 सीटें मिली थीं. वहीं, हाल ही में हुए गोरखपुर व फूलपुर लोकसभा सीटों पर हुए उप चुनाव में बीजेपी को हार मिली थी. बसपा के समर्थन के बाद सपा ने दोनों सीटों पर जीत हासिल की थी. सीएम योगी ने अति आत्मविश्वास को हार का कारण बताया था. अब पार्टी के नेता इस हार को मामूली बता रहे हैं.