UP Assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश के चुनाव रण में राजनीतिक दल उतर चुके हैं. पार्टियां और नेता अपने-अपने तरीके से समीकरण साध रहे हैं. सपा और अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का दावा है कि वह सरकार बनाएंगे. वहीं, बीजेपी (BJP) का दावा है कि वह फिर से सरकार पूरे बहुमत के साथ सरकार बनाएगी. कई सवालों और मतभेद की खबरों के बीच यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या (Keshav Prasad Maurya) ने ये साफ़ कर दिया कि बीजेपी उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी और न सिर्फ लड़ेगी बल्कि जीतेगी भी. केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि अखिलेश मुंगेरी लाल के हसीन सपने देखते रहें लेकिन प्रदेश में 300 से ज्यादा सीटों के साथ दोबारा से भाजपा सरकार बनने जा रही है. विधानसभा चुनाव के मुद्दों, बीजेपी सरकार की उपलब्धियों और अखिलेश-मायावती के चुनावी दावों सहित राज्य और चुनाव से जुड़े कई मुद्दों पर केशव प्रसाद मौर्य से खास बातचीत की गई. पढ़ें बातचीत के अंश.Also Read - UP Election 2022: योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में घर-घर मांगे वोट, कैराना और हज हाउस का ज़िक्र किया

सवाल: संसद भवन में आपने PM Modi के साथ मुलाकात की. पीएम के साथ मुलाकात में किन मुद्दों पर चर्चा हुई ? Also Read - UPTET 2021: कोरोना संक्रमित अभ्यर्थी दे सकेंगे यूपीटीईटी परीक्षा, अलग से होगी व्यवस्था

जवाब: प्रधानमंत्री जी का मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए मैंने उनसे मिलने के लिए समय देने का अनुरोध किया था. उन्होने मेरे अनुरोध को स्वीकार करते हुए आज संसद भवन में मुलाकात के लिए बुलाया था. संसद भवन में उनके कार्यालय में उनके साथ आनंददायक भेंट हुई, उनका मार्गदर्शन भी मिला, आशीर्वाद भी मिला और 2022 के विधान सभा चुनाव की तैयारी को लेकर मंत्र भी मिला. जिस प्रकार से 2019 में सभी विरोधी दलों के प्रयासों के बावजूद केंद्र में दोबारा से मोदी सरकार बनी उसी तरह से 2022 में प्रचंड बहुमत के साथ फिर से भाजपा की सरकार बनाने का दायित्व हम सबका है. उनके आगामी उत्तर प्रदेश दौरे की तैयारियों और कार्यक्रमों को लेकर भी चर्चा हुई. Also Read - UP Chunav 2022: सपा प्रमुख अखिलेश यादव मैनपुरी की करहल विधानसभा सीट से लड़ेंगे चुनाव- रिपोर्ट

सवाल: चुनावी तैयारियों की बात की जाए या वाराणसी में होने वाले अन्य राजनीतिक कार्यक्रमों की, भाजपा वाराणसी के जरिए क्या एक संदेश देने की कोशिश कर रही है?

जवाब: काशी बाबा विश्वनाथ की नगरी है. बाबा ने और गंगा मैया ने उन्हे बुलाया था. काशी के लोगों ने उन्हे आशीर्वाद देकर अपना सांसद बनाया और अब वो प्रधानमंत्री हैं. उनके नेतृत्व में देश का विकास हो रहा है, उत्तर प्रदेश का विकास हो रहा है और काशी का भी विकास हो रहा है. काशी प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है. काशी का विकास धार्मिक, आध्यात्मिक और वर्तमान ²ष्टि भी होना चाहिए. हमें इस बात पर गर्व है कि बाबा विश्वनाथ का भव्य कॉरिडोर काशी में बन कर तैयार है, प्रधानमंत्री उसे राष्ट्र को समर्पित करेंगे. डबल इंजन की सरकार में ही यह काम तेजी से संभव हो पाया है अन्यथा रुक गया होता, तुष्टिकरण की भेंट चढ़ गया होता.

सवाल: आप 2022 में प्रचंड बहुमत के साथ दोबारा से सरकार बनाने का दावा कर रहे हैं लेकिन आपके विरोधी अखिलेश यादव तो कह रहे हैं कि आप लोगों की विदाई होने जा रही है और वो सत्ता में आ रहे हैं.

जवाब: अखिलेश यादव को तो 2014 से ही मुंगेरी लाल के हसीन सपने आ रहे हैं, लेकिन उस समय क्या हुआ था, जब नींद खुली तो परिवार तक ही सिमट कर रह गए. 2017 में वो 300 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा कर रहे थे लेकिन जब नतीजा आया तो 47 पर ही सिमट कर रह गए. 2019 में बुआ-भतीजे ने गठबंधन किया, लेकिन इसके बावजूद जनता ने हमें 64 लोक सभा सीटों पर विजयी बनाया. अखिलेश यादव मुंगेरी लाल के हसीन सपने देखते रहे लेकिन हकीकत तो यही है कि सपा, बसपा या कांग्रेस की वापसी अब संभव नहीं है.

सवाल: लेकिन 2017 के विधान सभा चुनाव में भाजपा ने जिस तरह से जातियों का महागठजोड़ बनाया था, इस बार अखिलेश यादव भी उसी तरह का महागठजोड़ बनाने की रणनीति पर चल रहे हैं.

जवाब: उनके पास इस बात का कोई जवाब नहीं है कि जब वो 2012 से 2017 तक सत्ता में थे तो उन्होने इन जातियों के लिए क्या किया? अगर उन्होने उस समय इन लोगों को महत्व दिया होता, हिस्सेदारी दी होती तो निश्चित तौर पर कुछ लोग उनके साथ जाते. लेकिन अब जिन लोगों को भाजपा नहीं लेती है और जो सिर्फ कहने भर के लिए पूर्व सांसद, पूर्व विधायक और पूर्व मंत्री हैं, लेकिन जनता में उनका कोई जनाधार नहीं बचा है वो लोग उनके साथ जा रहे हैं. ऐसे लोगों के उनके साथ जाने से भाजपा का विजय रथ रूकने वाला नहीं है. लोग मोदी-योगी की डबल इंजन सरकार से खुश है और 2022 में भी 2017 की तरह ही 300 से ज्यादा सीटों पर जीत के साथ प्रदेश में भाजपा सरकार बनने जा रही है.

सवाल: बसपा सुप्रीमो मायावती भी प्रदेश में आप लोगों को हराने का दावा कर रही है.

जवाब: देखिए , दावे तो सभी कर रहे हैं लेकिन असलियत सब जानते हैं. जिनके पास बूथ पर कार्यकर्ता नहीं बचे हैं. जिनके पास जनता के बीच जाने का समय नहीं है. जिनके पास विपक्ष की भूमिका तक निभाने के लिए समय नहीं है. उनको जनता क्यों अपनाएगी, क्यों अवसर देगी ? जनता का भरोसा और विश्वास हासिल करने के लिए परिश्रम करना पड़ता है, पसीना बहाना पड़ता है. विरासत में मिली किसी चीज को संभालना सरल काम नहीं होता है.

सवाल: आप बार-बार मोदी-योगी की डबल इंजन सरकार की बात कर रहे हैं, लेकिन हाल के दिनों में उत्तर प्रदेश में चेहरे को लेकर आपके बयान ने कई सवाल खड़े कर दिए थे.

जवाब: उत्तर प्रदेश में भाजपा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है और योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में ही चुनाव जीतेगी. प्रदेश में फिर से कमल का फूल खिलेगा और प्रचंड बहमुत के साथ भाजपा की सरकार बनेगी.

सवाल: 2022 में आप किन मुद्दों पर फिर से जनादेश हासिल करने के लिए जनता के बीच जा रहे हैं ?

जवाब: सुशासन, विकास, कानून-व्यवस्था, भ्रष्टाचार पर लगाम, 24 घंटे बिजली, सड़कों का जाल, एक्सप्रेस वे. हमारे पास तो मुद्दा ही मुद्दा है. वास्तव में मुद्दाविहीन तो विपक्ष है, उसके पास कोई मुद्दा ही नहीं है.

सवाल: लेकिन विरोधी दल तो कानून-व्यवस्था के मसले पर भी आप पर निशाना साध रहे हैं.

जवाब: आज प्रदेश की कानून-व्यवस्था दुरुस्त है. गुंडे, अपराधी भय से कांप रहे हैं. अब गुंडे, माफिया या अपराधी के कारण किसी को उत्तर प्रदेश से पलायन नहीं करना पड़ रहा है. किसी बहन-बेटी के साथ अगर कोई घटना हो जाए तो अपराधी बच नहीं पा रहा है. दंगा करने का कोई साहस नहीं कर पा रहा है. कानून-व्यवस्था के मामले में हम नंबर वन है. कानून-व्यवस्था के साथ-साथ आज हम अन्य कई क्षेत्रों में भी नंबर वन है और जिन क्षेत्रों में हम नंबर 2, 3 या 4 है उसमें भी नंबर वन बनने के लिए प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बनना जरूरी है. इसलिए मैं प्रदेश की जनता से अपील करता हूं कि 2022 में सरकार बनाने के लिए एक बार फिर से भाजपा को अपना आशीर्वाद दें, क्योंकि हम उत्तर प्रदेश को शिखर तक ले जाना चाहते हैं.

सवाल: हाल ही में मथुरा को लेकर किया गया आपका ट्वीट भी काफी चर्चा में रहा.

जवाब: मेरा तो यही कहना था कि जिस तरह से अयोध्या और काशी में तेजी से विकास कार्य हो रहे हैं, उसी तरह से मथुरा में भी तेजी से विकास और पुनर्निमाण का कार्य होना चाहिए.

सवाल: आखिरी सवाल, 2022 में उत्तर प्रदेश में आप लोग कितनी सीटें जीतने जा रहे हैं ?

जवाब: 2014 , 2017 और 2019 में हमने जो दावा किया था, परिणाम भी वही आया था. अभी प्रदेश में विधान सभा चुनाव की घोषणा तो नहीं हुई है लेकिन मैं अभी ही आपको बता दूं कि 2022 में भी 2017 की तरह ही चुनावी नतीजे आएंगे और हम प्रदेश में 300 से ज्यादा सीटों के साथ दोबारा से सरकार बनाएंगे.