लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के बरेली जिले के बिथरी चैनपुर क्षेत्र में नयी परम्परा बनाते हुए खजुरिया गांव से कांवड़ यात्रा निकलवाने जा रहे क्षेत्रीय भाजपा
विधायक राजेश मिश्र को जिला प्रशासन ने उनके कार्यालय से नहीं निकलने दिया. उधर, कांवड़िये उसी रास्‍ते से कांवड़ यात्रा निकालने पर डटे हुए हैं, जिसके चलते भारी सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया है.

बरेली के जिलाधिकारी वीरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि बिथरी चैनपुर से भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल खजुरिया ब्रह्मनान गांव से कांवड़ यात्रा निकाले जाने का समर्थन कर रहे थे, जबकि इस गांव से पूर्व में कभी यह यात्रा नहीं निकली है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त आदेश हैं कि ऐसी कोई भी नई परंपरा नहीं डालने दी जाएगी, लिहाजा कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए विधायक को पूरे दिन कार्यालय से बाहर नहीं निकलने दिया गया. कांवड़ियों को भी उमरिया गांव के मोड़ पर ही बैरिकेडिंग लगाकर रोक लिया गया.उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के आदेशों का हर हाल में पालन किया जाएगा. अगर कोई भी नई परम्परा कायम करने की कोशिश करता है और उससे कानून-व्यवस्था बिगड़ती है तो उसके खिलाफ मामला दर्ज कर उसे जेल भेजा जाएगा.

Kanwar Yatra 2018: कांवड़ यात्रा पर ध्‍यान रखें ये नियम, वरना रुष्‍ट हो जाते हैं महादेव…

कांवड़िये मार्ग पर डटे, कहा-लेकर ही जाएंगे कांवड़
उधर, खजुरिया गांव से कांवड़ यात्रा निकालने की कोशिश में करीब डेढ़ सौ कांवड़िये घंटों जनप्रतिनिधियों का इंतजार करते रहे लेकिन अंतिम सूचना मिलने तक कोई भी नेता उमरिया नहीं पहुंच सका था. तनाव के मद्देनजर मौके पर बड़े पैमाने पर पुलिस और पीएसी के जवान तैनात हैं. कांवड़ियों को बीसलपुर मार्ग से होते हुए यात्रा ले जाने के लिये समझाने की कोशिश की जा रही है. इस बीच, विधायक राजेश मिश्र ने बताया कि उनके नहीं जाने से कांवड़ किस रास्ते से निकलेगी, यह नहीं पता है लेकिन कांवड़ यात्रा हर हाल में निकलेगी.