नई दिल्ली: टि्वटर और केंद्र सरकार के बीच चल रहे टकराव के बीच अब बीजेपी सांसद वरुण गांधी (BJP MP Varun Gandhi) और टि्वटर (Twitter) के बीच ठन गई है. दरअसल, टि्वटर ने पीलीभीत से लोकसभा सदस्य वरुण गांधी को एक मेल भेजा है, जिसमें कथिततौर पर उनके अकाउंट को लेकर भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा उनके प्‍लेटफार्म पर किए जा रहे नियमों के उल्‍लंघन को लेकर भेजा गया है.Also Read - क्या है जन सुराज अभियान का मकसद, 3500 KM लंबी पदयात्रा पर निकले प्रशांत किशोर ने बताया

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने बृहस्पतिवार को ट्विटर से उस कानूनी नोटिस को सार्वजनिक करने को कहा जो माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट के अनुसार, वरुण द्वारा इस प्लेटफॉर्म पर किये जा रहे उल्लंघनों को लेकर उसे भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों (Indian law enforcement agencies) ने भेजा है. Also Read - Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी ने तेज बारिश के बीच की जनसभा, भीगते हुए दिया भाषण, VIDEO VIRAL

वरुण गांधी ने एक ईमेल का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए ट्वीट किया कि यह मेल उन्हें ट्विटर से मिला है, जिसमें उनके अकाउंट को लेकर भारतीय कानून प्रवर्तन से मिले अनुरोध के बारे में सूचित किया गया है. Also Read - Ankita Bhandari Murder: उत्तराखंड में बंद का असर, सड़कों पर उतरे लोग, CBI जांच की मांग

पीलीभीत से लोकसभा सदस्य वरुण ने कहा कि उन्होंने किसी भी कानून का उल्लंघन नहीं किया. उन्होंने कहा कि उनके ट्वीट में कुछ भी आपत्तिजनक चीजें नहीं थीं और ट्विटर को इस मेल के लिए स्पष्टीकरण देना चाहिए कि यह किस आधार पर भेजा गया है. उन्होंने यह भी कहा कि ट्विटर भारतीय नागरिकों पर रौब जमा रहा है और उसका एक एजेंडा है.