नई दिल्ली: टि्वटर और केंद्र सरकार के बीच चल रहे टकराव के बीच अब बीजेपी सांसद वरुण गांधी (BJP MP Varun Gandhi) और टि्वटर (Twitter) के बीच ठन गई है. दरअसल, टि्वटर ने पीलीभीत से लोकसभा सदस्य वरुण गांधी को एक मेल भेजा है, जिसमें कथिततौर पर उनके अकाउंट को लेकर भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा उनके प्‍लेटफार्म पर किए जा रहे नियमों के उल्‍लंघन को लेकर भेजा गया है.Also Read - केन्द्रीय मंत्री रामदास आठवले की पीएम मोदी से मांग- क्षत्रियों को मिले 10 प्रतिशत आरक्षण

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने बृहस्पतिवार को ट्विटर से उस कानूनी नोटिस को सार्वजनिक करने को कहा जो माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट के अनुसार, वरुण द्वारा इस प्लेटफॉर्म पर किये जा रहे उल्लंघनों को लेकर उसे भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों (Indian law enforcement agencies) ने भेजा है. Also Read - Babul Supriyo Quits Politics: BJP सांसद बाबुल सुप्रियो ने छोड़ी राजनीति, हाल ही में केंद्र के मंत्रिमंडल से हटाए गए थे

वरुण गांधी ने एक ईमेल का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए ट्वीट किया कि यह मेल उन्हें ट्विटर से मिला है, जिसमें उनके अकाउंट को लेकर भारतीय कानून प्रवर्तन से मिले अनुरोध के बारे में सूचित किया गया है. Also Read - UP: जज की कार को टक्‍कर मारने के केस में ड्राइवर हिरासत में, घायल हुए एडीजी ने जान लेने की कोशिश का आरोप लगाया

पीलीभीत से लोकसभा सदस्य वरुण ने कहा कि उन्होंने किसी भी कानून का उल्लंघन नहीं किया. उन्होंने कहा कि उनके ट्वीट में कुछ भी आपत्तिजनक चीजें नहीं थीं और ट्विटर को इस मेल के लिए स्पष्टीकरण देना चाहिए कि यह किस आधार पर भेजा गया है. उन्होंने यह भी कहा कि ट्विटर भारतीय नागरिकों पर रौब जमा रहा है और उसका एक एजेंडा है.