लखनऊ. सीएम का स्वागत अक्सर लोग फूलों के गुलदस्ते या कीमती चीजों से करते हैं. लेकिन अब उत्तर प्रदेश में ऐसा नहीं होगा. उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव ने एक नया आदेश जारी किया है जिससे फिजूलखर्ची पर रोक लग सके. इसमें कहा गया है कि यूपी में सीएम की सभा में गुलदस्ते (बुके) की जगह पुस्तकें या एक फूल ही भेंट किया जाए.Also Read - Rohilkhand Opinion Poll: रुहेलखंड में योगी आदित्यनाथ इस मामले में अखिलेश से काफी आगे, ये है यहां की जनता का मूड

सूचना विभाग के प्रमुख सचिव अवनीश कुमार अवस्थी की ओर से 1 अगस्त को यह आदेश जारी किया गया है. इस आदेश के पीछे एक तर्क यह भी है कि लोग भेंट में बड़े बुके देते हैं जो की कुछ समय बाद व्यर्थ हो जाते हैं. लेकिन अगर उसकी जगह प्रेरणादायी पुस्तकें भेंट की जाएं तो वो बेहतर होगा और समाज में पढ़ाई का माहौल बनेगा. यह भी पढ़ें: यूपी में शादी का रजिस्ट्रेशन कराना होगा जरूरी, नहीं होने पर लगेगा जुर्माना Also Read - Prayagraj: छात्रों से झड़प मामले में 2 गिरफ्तार, 6 पुलिसकर्मी तत्काल प्रभाव से निलंबित

Also Read - UP Election 2022: अमित शाह की जाट नेताओं से मीटिंग, BJP सांसद के प्रस्‍ताव पर जयंत चौधरी ने दिया जवाब

प्रमुख सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने इस आदेश को उत्तर प्रदेश के सभी अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिव को भेज इस निर्देश पर अमल करने को कहा है. बता दें कि इससे पहले भी सीएम योगी आदित्यनाथ ने महंगी लग्जरी गाड़ियां खरीदने पर रोक लगा चुके हैं. गौरतलब हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी केरल में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि अगर हम किसी को बुके की जगह किताब दें तो उसे लेने वालों को सही मायने में उसका फायदा होगा.