CBI probe in Hathras Gangrape Case: हाथरस कथित सामूहिक बलात्कार मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ा ऐलान करते हुए मामले की जांच सीबीआई से कराने का निर्देश दिया है. हाथरस में बीते दिनों एक 19 साल की दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था. बाद में इलाज के दौरान दिल्ली के एक अस्पताल में मंगलवार को उसकी मौत हो गई थी. Also Read - बलिया गोलीकांड: आरोपी धीरेंद्र की आज कोर्ट में होगी पेशी, CBI जांच की मांग

उल्‍लेखनीय है कि मुख्‍यमंत्री के निर्देश पर शनिवार को अपर मुख्‍य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्‍थी और डीजीपी हितेष चंद्र अवस्‍थी हाथरस में पीडित परिवार से मिलने गये थे. मुख्‍यमंत्री कार्यालय के सूत्रों के मुताबिक योगी आदित्‍यनाथ ने अधिकारियों के साथ बैठक के बाद यह निर्णय लिया. शनिवार रात को यूपी मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर कहा, “मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने सम्पूर्ण हाथरस प्रकरण की जांच सीबीआई से कराए जाने के आदेश दिए हैं.” Also Read - पाकिस्तान में थरूर के बयान को लेकर घमासान, भाजपा बोली- राहुल गांधी को ‘राहुल लाहौरी’ कहेंगे

योगी आदित्यनाथ ने कहा, “हाथरस की दुर्भाग्यपूर्ण घटना और जुड़े सभी बिंदुओं की गहन पड़ताल के उद्देश्य से यूपी सरकार इस प्रकरण की विवेचना केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के माध्यम से कराने की संस्तुति कर रही है. इस घटना के लिए जिम्मेदार सभी लोगों को कठोरतम सजा दिलाने के लिए हम संकल्पबद्ध हैं.”

इस मामले को लेकर विपक्ष पिछले कई दिनों से आंदोलन कर रहा है. कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी हाथरस में पीडि़त परिवार से मिलने पहुंचे जबकि समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधिमंडल रविवार को वहां जाने वाला है. ऐसा लग रहा है कि विपक्ष का दवाब भी इस मामले में काम आया. पिछले कई दिनों से कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस जाने के लिए प्रयासरत थे जिन्हें शनिवार को जाने की इजाजत मिली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने हाथरस पहुंचकर पीड़िता के परिवार से मुलाकात कर ढांढस बंधाया और कहा कि वे न्याय के लिए लड़ेंगे. दूसरी तरफ, पीड़िता के परिजन का कहना है कि वे उच्चतम न्यायालय की निगरानी में जांच चाहते हैं. माना जा रहा है कि विपक्ष को हमलावर देखते हुए यूपी सरकार ने ये बड़ा कदम उठाने का फैसला किया है.

हालांकि सीबीआई जांच के आदेश देने से पहले यूपी सरकार द्वारा गठित एसआईटी ने भी जांच की थी. हाथरस प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि 19 वर्षीय दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म और मौत के मामले की जांच करने के लिए गठित विशेष जांच दल (एसआईटी)ने अपनी आरंभिक जांच का काम पूरा कर लिया है. हालांकि अब इस मामले को सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया है.

गौरतलब है कि 14 सितम्बर को हाथरस में चार युवकों ने 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया था. मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता की मौत हो गई, जिसके बाद बुधवार तड़के उसके शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया. पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें रात में ही अंतिम संस्कार करने के लिए बाध्य किया. बहरहाल, स्थानीय पुलिस का कहना है कि ‘‘परिवार की इच्छा के मुताबिक’’ अंतिम संस्कार किया गया.