Gaurav Chandel Murder Case: ग्रेटर नोएडा वेस्ट (Greater Noida West) के सनसनीखेज गौरव चंदेल (Gaurav Chandel) की हत्या के मामले में 9 दिन बाद पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. पुलिस के मुताबिक गौरव चंदेल की लूटी गई कार गाजियाबाद के मसूरी  (Ghaziabad Masuri) इलाके से बरामद कर ली गई है. गौरव चंदेल 6 जनवरी को गुरुग्राम से ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित गौर सिटी (Gaur City) अपने घर लौट रहे थे. हिंडन नदी के पास परथला चौक पर अज्ञात बदमाशों ने उनके सिर में गोली मारकर उनकी हत्या कर दी और उनकी कार और लैपटॉप आदि लूट कर फरार हो गए थे. गौरव चंदेल के परिवार वालों ने आरोप लगाया कि वारादात वाली रात को थाना बिसरख पुलिस ने सीमा विवाद के चलते उनकी रिपोर्ट दर्ज करने के बजाय उन्हें नोएडा के थाना फेस -3 में भेज दिया, जिसके कारण समय रहते चंदेल की तलाश नहीं हो पाई. परिजनों ने बताया कि सुबह पांच बजे उन्हें चंदेल का शव परथला चौक से कुछ दूरी पर मिला.

गौरव चंदेल मर्डर केस में पुलिस की लापरवाही

इस जघन्य हत्याकांड की जांच के दौरान पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई, जिसके बाद कार्रवाई करते हुए थाना बिसरख के प्रभारी निरीक्षक मनोज पाठक समेत छह पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया और एक अन्य को लाइन हाजिर कर दिया गया. इस हत्याकांड के खुलासे के लिए उत्तर प्रदेश एसटीएफ सहित पांच टीमें लगाई गई हैं. इस मर्डर केस की जांच में पुलिस ने 100 से अधिक आपराधिक छवि वाले लोगों से पूछताछ की.

स्थानीय लोगों में  काफी आक्रोश

गौरव चंदेल की हत्या से इलाके में काफी रोष व्याप्त हो गया और घटना के बाद से ही लोग लगातार प्रदर्शन करते रहे हैं. गौतमबुद्धनगर के जिलाधिकारी बृजेश नारायण सिंह ने बीते दिनों गौरव चंदेल के घर वालों से मुलाकात की थी और उनकी पत्नी को मुख्यमंत्री राहत कोष से 20 लाख रुपये की सहायता राशि का चेक दिया. पुलिस और प्रशासन को साथ आया देख लोगों ने घटना के बाद क्षेत्र में व्याप्त डर के बारे मे उनके बातचीत की और सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा.

जिलाधिकारी ने बताया कि मृतक के परिजनों को सामाजिक व आर्थिक सहायता देने का उत्तर प्रदेश सरकार ने भरोसा दिलाया था, जिसे पूरा किया गया है. उन्होंने बताया कि चंदेल परिवार की सुरक्षा के लिए एक गनर उनके घर पर तैनात कर दिया गया है.