नई दिल्ली: जमाना सोशल मीडिया का है. कहते हैं कि 2014 का लोकसभा चुनाव पहली बार टीवी की बजाय सोशल मीडिया पर लड़ा गया था. बीजेपी ने फेसबुक, ट्विटर, वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम जैसी सोशल साइटों पर जमकर चुनाव प्रचार किया. पार्टी को इसका फायदा भी मिला. जब तक विपक्ष राजनीति में इस्तेमाल होने वाले इस नए हथियार के बारे में समझ पाता तब तक खेल हो चुका था. बीजेपी सोशल मीडिया की बाजी जीत चुकी थी. 2014 के बाद कई राजनीतिक पार्टियां और राजनेता सोशल मीडिया पर एक्टिव हुए और अपना और अपनी पार्टी का चुनाव प्रचार शुरू किया.

हालांकि उत्तर प्रदेश की 4 बार मुख्यमंत्री रहीं और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती हमेशा सोशल मीडिया से दूर रहीं लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने भी सोशल मीडिया पर एंट्री कर ली है. मायावती अब आधिकारिक तौर पर सोशल मीडिया जेनेरेशन का हिस्सा बन गई हैं.मा यावती का ट्विटर हैंडल है. @SushriMayawati. बीएसपी महासचिव सतीश मिश्रा ने एजेंसी से बातचीत में इसकी पुष्टि की. बसपा कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि मायावती ने पहली बार ट्विटर के माध्यम से लोगों और मीडिया से संवाद करने का फैसला किया है. बयान में कहा गया है कि मीडिया इस हैंडल से ट्वीट की जाने वाली सूचनाओं का इस्तेमाल अपनी खबरों के लिए कर सकती है.

लोकसभा सीटों के लिहाज से सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने 23 साल बाद गठबंधन किया है. दोनों पार्टियां 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. समाजवादी पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं. न केवल अखिलेश यादव बल्कि उनकी पार्टी भी सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं. लेकिन बहुजन समाज पार्टी सोशल मीडिया से दूर थी. 63 साल की उम्र में मायावती अब ट्विटर पर आ गई हैं. लालू यादव के छोटे बेटे और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया की 13 जनवरी को मुलाकात में उन्होंने मायावती को ट्विटर पर आने के लिए कहा था. मायावाती ने उनकी बात मान ली है और इसे लेकर वह खुश हैं.

मायावती ने अबतक कुल 12 ट्वीट कए हैं. उनके फोलोअर्स की संख्या 8326 है. हालांकि मायावती अभी किसी को फोलो नहीं कर रही हैं. ट्विटर पर दी गई जानकारी के अनुसार मायावती खुद की वेबसाइट भी लॉन्च करने जा रही हैं. वेबसाइट खोलने पर कमिंग सून का मैसेज आता है. अब तक उनके ट्विटर हैंडल पर ज्यादातर प्रेस विज्ञप्ति ट्वीट की गई हैं.