लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और नेशनल को-ऑर्डिनेटर जयप्रकाश सिंह को पार्टी सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को पद से हटा दिया. एक दिन पहले पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन में सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के विदेशी खून सहित गाय के बारे में विवादित बयान दिया था. मायावती ने पार्टी के अन्य नेताओं को भी बयान देने में सतर्कता बरतने की चेतावनी दी है.

सोमवार को बसपा के जोन स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए जयप्रकाश सिंह ने कांग्रेस की वंशवादी राजनीति पर जमकर आग उगला. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बारे में कहा कि राहुल अपनी मां सोनिया गांधी पर चले गए हैं और विदेशी हैं. वे अपने पिता राजीव गांधी के नक्शेकदम पर चलते तो शायद राजनीति में सफल हो जाते. उन्होंने दावा किया कि राहुल कभी भारतीय राजनीति में सफल नहीं हो सकते.

बसपाईयों ने मायावती को देश की पहली ‘दलित महिला प्रधानमंत्री’ बनाने का किया आह्वान

सिंह ने गाय पर चल रहे विवाद पर बयान देते हुए कहा कि गाय एक अच्छी पशु हो सकती है. वह कम खाना खाकर ज्यादा दूध देने वाली हो सकती है, लेकिन किसी की माता नहीं हो सकती. मां वही हो सकती है जिसने हमें जन्म दिया है. गाय तुम्हारी माता हो सकती है, हमारी नहीं.

Good News: सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद अग्रिम जमानत की हो सकती है यूपी में वापसी, विधानसभा में पेश होगा विधेयक

हालांकि, बसपा सुप्रीमो मायावती ने इसके बाद कार्रवाई करते हुए उन्हें पद से हटा दिया है. माया ने कहा कि उन्हें जयप्रकाश सिंह के भाषण के बारे में पता चला जिसमें उन्होंने विरोधी पार्टियों के नेताओं के खिलाफ व्यक्तिगत आक्षेप किए हैं. ये उनके व्यक्तिगत विचार हैं और पार्टी का इससे कोई लेना-देना नहीं है. उन्हें तत्काल प्रभाव से पद से भी हटा दिया गया है.

मायावती ने पार्टी नेताओं को गठबंधन के बारे में बयानबाजी से भी परहेज करने को कहा है. उन्होंने कहा है कि गठबंधन होने तक पार्टी नेता इस बारे में कुछ न बोलें. गठबंधन से संबंधित सारे मामले पार्टी हाईकमान पर छोड़ दें.