नई दिल्लीः लॉकडाउन के बीच लगातार प्रवासी मजदूरों का पलायन जारी है. इस बीच मजदूरों की कंडीशन को लेकर बसपा सुप्रीमों मायावती ने एक बार फिर से भाजपा और कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. मायावती ने कहा कि आज देश के श्रमिकों को जो कुछ सहन करना पड़ा रहा है उसकी जिसका जिम्मेदार सिर्फ एक पार्टी ही नहीं है बल्कि इसके कांग्रेस और भाजपा दोनों ही समान रूप से जिम्मेदार हैं.Also Read - Maharashtra News: महाराष्ट्र में क्या फिर साथ आने वाले शिवसेना-BJP? उद्धव ठाकरे के इस बयान से लग रहीं अटकलें...

मयावती ने कहा जहां एक ओर देशभर में मजदूर और गरीब लोग अपने घर जाने के लिए परेशान हैं तो वहीं तमाम राजनीतिक पार्टियां अपने स्वार्थ को सिद्ध करने के लिए घिनौनी राजनीति करने में व्यस्त हैं. Also Read - Third Wave News: दूसरी की तरह क्या कोरोना की तीसरी लहर भी होगी भयावह? शीर्ष वायरस विज्ञानी ने दी अहम जानकारी

Also Read - Rajasthan Lockdown Update: राजस्थान में कोरोना पाबंदियों में मिली ढील, 20 सितंबर से खुलेंगे सभी स्कूल; शादी के लिए नई गाइडलाइन जारी

मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार को मजदूरों के रोजगार के लिए पहले ही ध्यान देना चाहिए था. अगर उन्हें अपने राज्यों या शहरों पर रोजगार उपलब्ध होता तो वो इतनी दूर कमाई के लिए जाते ही नहीं. और अब मुश्किल हालात में उन्हें सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलना पड़ रहा है.

उन्होंने कहा कि पहले तो उन्हें सरकार की तरफ से निराशा हाथ लगी और अब उन्हें वहां भी भरोसा नहीं है जहां वे कुछ पैसों के लिए घंटों की मेहनत करते थे. मायावती ने कहा कि बहुजन समाजवादी पार्टी ने हमेशा से ही मजदूर और कमजोर वर्ग के लोगों के उत्था के लिए काम किया और हमेशा उनकी भलाई के ही बारे में सोचा है.

बसपा सुप्रीमों ने कहा कि मजदूर देश की प्रगति का एक अहम हिस्सा है और आज जब वह मुश्किल में है तो भाजपा और कांग्रेस जैसी राजनीतिक पार्टियां अपने स्वार्थ की रोटी सेंक रही हैं.