लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती ने बुधवार को कहा कि बसपा को भरोसा है कि भारत सरकार देश की अपेक्षा के अनुरूप चीन को करारा जवाब देती रहेगी और बसपा, सरकार एवं सेना के साथ है. Also Read - चीन बोला- लद्दाख में बुनियादी ढांचे के निर्माण का विरोध करते हैं, भारत ने किया पलटवार

मायवती ने एक ट्वीट में कहा, ”चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर जारी संघर्ष, तनाव व तैनाती आदि को लेकर देश में उत्सुकता व चिंता स्वाभाविक है, जिसको लेकर सरकार ने संसद में कल बयान भी दिया है. बसपा को भरोसा है कि भारत सरकार देश की अपेक्षा के अनुरूप चीन को करारा जवाब देती रहेगी. बसपा, सरकार एवं सेना के साथ है.” Also Read - आर्मी को मिले खराब गोला-बारूद से इतना बड़ा नुकसान, खरीदी जा सकती थीं 100 आर्टिलरी गन

कांग्रेस का आरोप- जवानों के सम्मान में अपनी बात रखने का मौका नहीं नहीं दिया सरकार ने
बता दें कि मंगलवार को कांग्रेस ने चीन के साथ गतिरोध पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के वक्तव्य के बाद आरोप लगाया कि लोकसभा में उसके नेता सीमा पर तैनात जवानों के सम्मान में अपनी बात रखना चाहते थे, लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं होने दिया. पार्टी ने सरकार पर चर्चा से डरने का भी आरोप लगाया और सवाल खड़ा किया कि जब रक्षा मंत्री ने यह वक्तव्य दिया और जवानों के प्रति एकजुटता प्रकट करते हुए प्रस्ताव की बात की तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में मौजूद क्यों नहीं थे?

राहुल ने कहा- मोदी जी ने देश को गुमराह किया
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर दावा किया, ”रक्षामंत्री के बयान से साफ़ है कि मोदी जी ने देश को चीनी अतिक्रमण पर गुमराह किया.” उन्होंने सवाल किया, ”हमारा देश हमेशा से भारतीय सेना के साथ खड़ा था, है और रहेगा. लेकिन मोदी जी, आप कब चीन के ख़िलाफ़ खड़े होंगे? चीन से हमारे देश की ज़मीन कब वापस लेंगे? चीन का नाम लेने से डरो मत.” लोकसभा में कांग्रेस के सांसदों ने रक्षा मंत्री के बयान के बाद आसन से बोलने की अनुमति नहीं मिलने पर सदन से वाकआउट किया और संसद परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना देकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की.