मेरठ. उत्तर प्रदेश के बुलन्दशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हुई हत्या के मामले में मुख्य आरोपी प्रशांत नट को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) बुलन्दशहर प्रभाकर चौधरी ने बृहस्पतिवार को नट की गिरफ्तारी की पुष्टि की. उन्होंने यह भी बताया कि नट ने ही सिंह की हत्या की थी और उससे इस मामले में पूछताछ की जा रही है. हालांकि, हत्या में इस्तेमाल किया गया रिवाल्वर अभी बरामद नहीं हो पाया है. गौरतलब है कि बुलंदशहर में भीड़ के हमले में इंस्पेक्टर सुबोध के अलावा एक अन्य युवक की मौत हो गई थी. बता दें कि बुलंदशहर में पुलिस इंस्पेक्टर की हत्या और गोकशी की घटनाओं को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ के दिए बयान पर बॉलीवुड एक्टर नसीरुद्दीन शाह के एक इंटरव्यू को लेकर भी विवाद हुआ था. नसीरुद्दीन ने इंटरव्यू में कहा था कि देश के हालात ऐसे हो गए हैं कि एक इंस्पेक्टर की हत्या की जगह गायों की मौत को तरजीह दी जा रही है.

पुलिस ने तीन आरोपियों को पकड़ा, कहा- ये पहले गायों को गोली मारते, फिर काटकर ले जाते थे

चौधरी ने यह भी बताया कि इंस्पेक्टर ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी, जिसमें सुमित नाम के युवक की मौत हो गई थी. उसकी उम्र 20 साल के करीब थी. पुलिस सूत्रों के अनुसार ‘वीडियो फुटेज’ और कुछ लोगों की गवाही के आधार पर इंस्पेक्टर की हत्या में नट को संदिग्ध पाया गया. गत तीन दिसंबर को हुई इस घटना के सिलसिले में बुलन्दशहर पुलिस ने अब तक 22 लोगों को गिरफ्तार किया है और छह से अधिक लोगों ने अदालत में आत्मसमर्पण किया है. उल्लेखनीय है कि पहले सेना के जवान जीतू फौजी पर संदेह था, लेकिन उसके खिलाफ सबूत नहीं मिले.

क्या आप बुलंदशहर हिंसा के गुनाहगारों को पहचानते हैं? अगर हां तो पुलिस को बताएं, ये है लिस्ट

क्या आप बुलंदशहर हिंसा के गुनाहगारों को पहचानते हैं? अगर हां तो पुलिस को बताएं, ये है लिस्ट

बुलंदशहर के चिंगरावठी गांव में इस महीने की शुरुआत में 3 दिसंबर को कथित गोकशी की घटना के बाद 400 लोगों की भीड़ और पुलिस के बीच भीषण टकराव हुआ था, जिसमें पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को गोली मार दी गई थी. वहीं, भीड़ द्वारा किए गए उपद्रव के दौरान 20 वर्षीय एक अन्य युवक भी इस घटना में अपनी जान गंवा बैठा था. पुलिस ने जांच के दौरान बीते 19 दिसंबर को जिले में हुई गोकशी की घटना के खुलासे का दावा किया था. पुलिस ने इस सिलसिले में तीन आरोपियों नदीम, रहीश और काला कुरैशी को भी पकड़ा था, जिनके बारे में कहा गया था कि आरोपी पहले गायों को खोजकर उन्‍हें गोली मारते थे, फिर जब वे घायल हो जाते थे तो उन्‍हें काटकर उठा ले जाते थे. पुलिस ने आरोपियों के पास से एक लाइसेंसी बंदूक, कुल्‍हाड़ी, छुरे व एक खुली जीत सहित अन्‍य सामान बरामद किया था.

(इनसेट – एजेंसी)