लखनऊ: बारहवीं पास करने के बाद जीतू अपने इलाके के उन गिने-चुने लोगों में था, जो सेना में भर्ती हुआ. जीतू को सेना में भर्ती होने के बाद इलाके के हीरो के तौर पर देखा जाता था. गांव लोग बताते हैं कि उन्हें यकीन नहीं कि उसी ‘हीरो’ ने एक इंस्पेक्टर की कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी. जीतू की मां भी लगातार कह रही हैं कि ‘अगर उनके बेटे ने इंस्पेक्टर की जान ली है, तो उसे मैं ही गोली मार दूंगी.’ हिंसा के बाद बुलंदशहर से अपनी ड्यूटी पर गए जीतू को अरेस्ट करने के लिए यूपी पुलिस जम्मू-कश्मीर गई है. खबर है कि पुलिस ने उसे अरेस्ट कर लिया है. क्या जीतू जो पुलिस रिकॉर्ड में आरोपी नंबर 11 है, ने वाकई इंस्पेक्टर की जान ली है?

बुलंदशहर हिंसाः क्या सोची-समझी साजिश के तहत भीड़ ने किया ‘मर्डर’! इन 3 वजहों से जानिए पूरी कहानी

हिंसा में इंस्पेक्टर की गई थी जान, आरोपी नंबर 11 है जीतू
बता दें कि यूपी के बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की जान चली गई थी. तीन दिसंबर को हुई इस घटना में सुबोध गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस घटना के कुछ वीडियोज में चिंगरावटी गांव का ही रहने वाले जीतू फौजी दिख रहा है. उसे गोली चलाते देखा गया. इसके बाद पुलिस ने उसके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया. वह इस मामले का 11वां आरोपी है. जीतू की गिरफ्तारी के लिए एक पुलिस की एक टीम जम्मू-कश्मीर भेजी गई. इससे पहले इस मामले में पांच और अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस महानिरीक्षक (अपराध) एसके भगत ने बताया कि बुलंदशहर के स्याना में गत तीन दिसंबर को स्याना कोतवाली के पुलिस निरीक्षक सुबोध सिंह की हत्या के मामले में जीतू नामक सैन्यकर्मी नामजद अभियुक्त है.

बुलंदशहर हिंसा: बजरंग दल का फरार कार्यकर्ता वीडियो में सामने आया, खुद को बताया बेकसूर

प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक वह जम्मू कश्मीर में तैनात है. घटना में जीतू की क्या भूमिका थी यह विशेष जांच दल (एसआईटी) की तफ्तीश में पता चलेगा. इस मामले में अब तक कुल नौ अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है. उन्होंने बताया कि आज गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों में कोई भी नामजद मुलजिम नहीं था. इन सबकी पहचान घटना के वीडियो फुटेज और चश्मदीदों की गवाही के आधार पर की गई है. गोकशी के मामले को लेकर उग्र भीड़ की हिंसा में थाना कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर सुबोध सिंह तथा सुमित नामक एक अन्य युवक की मृत्यु हो गई थी. इस मामले में 27 नामजद लोगों तथा 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

बुलंदशहर हिंसा: हालात संभालने में नाकाम रहने पर दो पुलिस अधिकारियों के तबादले

20 की उम्र में सेना में हुआ था भर्ती
जीतू की उम्र इस समय 24 साल है. उसका कभी कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं रहा. इलाकों के अलग-अलग कॉलेज से 12वीं तक पढ़ाई के बाद कड़ी मेहनत के बल पर वह करीब चार साल पहले सेना में भर्ती हुआ. इसके बाद जीतू की छवि हीरो की बन गई. जीतू की नौकरी लगने के बाद शादी हुई और उसका 10 माह का बच्चा भी है. पुलिस के मुताबिक कई वीडियो में जीतू हिंसा स्थल पर दिख रहा है. उसके हाथ में तमंचा है, लेकिन गांव के लोगों को यकीन नहीं कि जीतू ने इंस्पेक्टर की जान ली होगी.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- बुलंदशहर की घटना भीड़ हिंसा नहीं, महज एक दुर्घटना है

मां बोली- बेटे को मार दूंगी गोली
गांव वालों की तरह जीतू की मां भी उसके निर्दोष होने को लेकर आश्वस्त हैं. उन्हें इंस्पेक्टर की जान जाने का दुःख है, लेकिन उनका जीतू ऐसा नहीं कर सकता है. वह कहती हैं कि अगर बेटे ने ऐसा किया हो उसे भी गोली मार दी जाए. वह खुद बेटे को गोली मार देंगी. उनका यह भी कहना है कि पुलिस उन्हें परेशान कर रही है. घर में उनकी बहु को परेशान किया जा रहा है. बार-बार जांच के नाम पर पुलिस घर आकर बदसुलूकी कर रही है. जीतू की मां को भी इंतजार है कि पुलिस जीतू को जम्मू कश्मीर से लेकर आएगी, तो वह उससे मिलकर पूछना चाहेंगी कि आखिर सच क्या है.