लखनऊ: बुलंशहर हिंसा में मारे गए सुमित नाम के युवक को शहीद का दर्जा देने और उसकी प्रतिमा लगवाने की मांग की गई है. ये मांग सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले सुमित के परिजनों ने की है. सुमित के परिजन लखनऊ में सीएम योगी से मिलने पहुंचे थे. सीएम से बातचीत के बाद परिजनों ने कहा कि वह चाहते हैं कि सुमित को सम्मान मिले. हमने कई मांगें की हैं. Also Read - Muradnagar Crematorium Roof Collapes Incident: मुरादनगर में श्मशान घाट पर छत ढहने से 23 की मौत, सीएम योगी ने जांच के दिए आदेश, पीएम मोदी ने जताया दुख

Also Read - सोशल मीडिया पर छाए सीएम योगी आदित्यनाथ, ट्विटर इंडिया पर ट्रेंडिंग टॉपिक बना 'योगीजी नंबर 01'

Bulandshahr Violence Updates: 87 लोगों पर FIR, इंस्पेक्टर सुबोध को छोड़कर भाग गए थे पुलिसवाले Also Read - यूपी के किसान बनेंगे सशक्त, अन्नदाताओं की आमदनी दोगुनी करने के लिए सीएम योगी छह जनवरी से शुरू करेंगे मुहिम

बता दें कि गौकशी के शक में भड़की बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार शहीद हो गए थे. भीड़ का शिकार हुए सुबोध कुमार के साथ ही सुमित नाम के युवक की भी जान चली गई थी. इंस्पेक्टर सुबोध और सुमित को एक ही तरह की गोली लगी थी. घटना के बाद वायरल हुए कई वीडियो में सुमित को भीड़ के साथ देखा गया. सुमित हिंसा करने वाली भीड़ में शामिल था. सुमित को गोली कैसे लगी और किसने मारी, इसका पता अब तक नहीं चल पाया है.

बुलंदशहर हिंसा: सुमित का एक और वीडियो वायरल, पुलिसवालों को पत्थर मारता दिखा

वहीं, आज सुमित के परिजन बुलंदशहर से लखनऊ सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने पहुंचे. मीटिंग के बाद सुमित के परिजनों ने बताया कि उन्होंने सीएम योगी से न्याय की मांग की है. हमने ये भी मांग की है कि सुमित की प्रतिमा लगवाई जाए और उसे शहीद का दर्जा दिया जाए. सुमित के पिता ने कहा कि जिस तरह से इंस्पेक्टर सुबोध कुमार के परिजनों को मदद दी गई, उसी तरह से उन्हें भी आर्थिक सहायता प्रदान की जाए. बता दें कि सुबोध कुमार के परिजनों को 50 लाख रुपए की सहायता दी है. जबकि सुमित के परिजनों को 10 लाख रुपए देने का एलान किया था, लेकिन सुमित के परिजन इससे संतुष्ट नहीं हैं.