लखनऊ: बुलंदशहर हिंसा के मामले में बनी विशेष जांच दल (एसआईटी) की जांच में उत्तर प्रदेश एसटीएफ भी उसकी मदद कर रही है. अपर पुलिस महानिदेशक (अभिसूचना) मामले की जांच कर राजधानी वापस आ गये है और अपनी रिपोर्ट जल्द ही उच्चाधिकारियों को सौपेंगे. बता दें कि सीएम योगी ने अपर पुलिस महानिदेशक (अभिसूचना) एसबी शिरडकर को दो दिन के अंदर पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे. साथ ही उन्होंने यह भी निर्देश दिया था कि जांच रिपोर्ट में घटना के कारणों और दोषी व्यक्तियों का विवरण भी शामिल किया जाए.

आईजी (अपराध) एसके भगत ने पत्रकार वार्ता में बताया कि आईजी मेरठ के नेतृत्व में चार सदस्यीय एसआईटी टीम ने जांच का काम शुरू कर दिया है. इसके अन्तर्गत वह घटना वाले दिन की तमाम वीडियो फुटेज का भी बारीकी से निरीक्षण कर रही है ताकि यह पता लगाया जा सकें कि हिंसा के पीछे कौन-कौन लोग शामिल है. इस काम में एसआईटी की मदद उत्तर प्रदेश एसटीएफ कर रही है. उन्होंने कहा कि बुलंदशहर हिंसा के मामले में आरोपियों को पकड़ने के लिये पुलिस की टीमें लगातार दबिश दे रही है.

बुलंदशहर हिंसा: CM योगी ने कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश, मृतक सुमित के परिवारजनों को 10 लाख की सहायता

32 बोर की गोली से हुई इंस्पेक्टर सुबोध कुमार और युवक सुमित की हत्या
उनसे पूछा गया कि क्या इस हिंसा का मुख्य आरोपी योगेश राज है, इस पर उन्होंने जवाब दिया कि उसका नाम एफआईआर में तो है लेकिन वह मुख्य आरोपी है या नहीं इसका पता एसआईटी की जांच में ही लगेगा. एक सवाल के जवाब में आईजी (अपराध) ने साफ किया कि प्रथमदृष्टया मिली जानकारी के अनुसार इंस्पेक्टर सुबोध कुमार और एक अन्य युवक सुमित की हत्या 32 बोर की गोली से हुई है. अब गोली एक ही रिवाल्वर से चली है या अलग-अलग रिवाल्वर से इसका पता एफएसएल रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा.

बुलंदशहर हिंसा: शहीद पुलिस अफसर के परिवार को 50 लाख रुपये व सरकारी नौकरी देने का ऐलान

जल्‍द ही उच्‍च‍ाधिकारियों को सौंपेंगे रिपोर्ट
आईजी (अपराध) ने कहा कि अपर पुलिस महानिदेशक (अभिसूचना) अपनी जांच कर राजधानी वापस आ गये है और वह जल्द ही अपनी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को सौपेंगे. गौरतलब है कि कि सोमवार को बुलंदशहर के चिंगरावठी पुलिस चौकी पर कथित गौकशी की खबर के बाद भीड़ की हिंसा के बाद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी. (इनपुट एजेंसी)