बुलंदशहर: इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या के आरोपी जवान को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. इससे पहले जीतू उर्फ़ जितेन्द्र मालिक से कई घंटों की पूछताछ की गई. एसटीएफ व एसआईटी की घंटों चली आरम्भिक पूछताछ के बाद पुलिस ने जीतू का जिला अस्पताल में मेडिकल परीक्षण करवाया गया. उसके बाद भारी पुलिस बल के साथ क्राइम ब्रांच की टीम उसे लेकर स्थानीय कोर्ट पहुंची. जहां से उसे जेल भेजा गया.

बुलंदशहर हिंसा: आरोपी जीतू को घटना स्थल लेकर पहुंची SIT, आर्मी जवान ने खुद को बताया बेगुनाह

पुलिस ने फंसाया !
कोर्ट में भी जीतू फौजी खुद को बेगुनाह बताता रहा उसने कोर्ट से कहा कि वो भगोड़ा नहीं है उसे फंसाया गया है. जीतू ने कहा ‘मैं निर्दोष हूं, पुलिस ने मुझको फंसाया है’. उसने कहा ‘मैं ना तो भगोड़ा हूं और ना ही आतंकवादी. मैंने कोई गोली नहीं चलाई’. आरोपी जवान ने पुलिस पर उसके घर में घुसकर तोड़फोड़ करने का भी आरोप लगाया. बता दें कि बुलंदशहर हिंसा मामले के मुख्य आरोपियों में से एक सेना के जवान जीतू उर्फ़ जितेंद्र मलिक की शनिवार को सोपोर से गिरफ्तारी हुई थी.

बुलंदशहर हिंसा: आर्मी जवान जीतू गिरफ्तार, SIT करेगी पूछताछ

आज रविवार सुबह STF व SIT की टीम उसे लेकर घटनास्थल पर पहुंची थी वहां के दौरे के बाद पुलिस आरोपी जीतू को स्याना पुलिस स्टेशन लेकर चली गई थी जहां उससे घंटों पूछताछ की गई. एसएसपी एसटीएफ ने बताया कि पूछताछ के दौरान आरोपी जीतू ने यह स्वीकार किया है कि जब हिंसा भड़कने के दौरान भीड़ एकत्रित होनी शुरू हुई तो वह वहां मौजूद था. लेकिन उसने खुद को बेकसूर बताते हुए पुलिस पर गोली चलाने व पत्थरबाजी करने के आरोपों से इंकार कर दिया.

बुलंदशहर हिंसा का आरोपी नंबर 11, जिसके दोषी होने पर उसकी मां ही मारना चाहती है गोली