लखनऊ/वाराणसी: उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने एक बार फिर अपनी सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला. साथ ही अपनी ही सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए 24 दिसंबर से प्रदेश के 75 जिलों में क्रमिक अनशन पर जाने का ऐलान किया है. राजभर सोमवार को वाराणसी में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे. उन्होंने कहा कि प्रदेश के अति पिछड़ा समाज को हर हाल में अन्य पिछड़ा वर्ग के 27 फीसदी आरक्षण में बंटवारा चाहिए.Also Read - UP Election 2022: यूपी सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धि बताएंगे सीएम योगी, जिले में जुटेंगे मंत्री व सांसद

Also Read - UP: पूर्व गवर्नर अजीज कुरैशी के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज, योगी सरकार के खिलाफ आपत्तिनजक बयान देने का आरोप

किसान पर था 15 लाख का बकाया, जेल में तबीयत बिगड़ी तो अफसरों के हाथ-पांव फूले, वक्त से पहले किया रिहा Also Read - Ration Card: यूपी में 1739 किसानों का राशन कार्ड रद कर देगी योगी सरकार, जानिए क्या है कारण

इससे कम पर यह समाज कुछ भी स्वीकार नहीं करने वाला है. इसके अभाव में अति पिछड़ों, खासकर राजभर समाज को रिझाने की भाजपा की हर कोशिश बेकार जाएगी. ओमप्रकाश राजभर की पार्टी का दावा है कि राजभरों को सुहेलदेव के नाम पर डाक टिकट जारी कर झुनझुना पकड़ाया जा रहा है, जबकि सपा से भाजपा में शामिल अनिल राजभर की विश्वसनीयता को लेकर राजभर समाज निश्चिंत नहीं है. मंत्री ने इस्तीफा देने के सवाल पर कहा, ‘भाजपा निकालना चाहे तो निकाल दे, मैं पद छोड़ने वाला नहीं.’

PM मोदी के गाजीपुर दौरे में शामिल नहीं होंगे योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री राजभर, कहा- कभी बुलाते तो हैं नहीं

राजभर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 29 दिसंबर को गाजीपुर में होंने वाली रैली में शामिल न होने का ऐलान किया है. वह 27 प्रतिशत आरक्षण को तीन वर्गो में बंटवाने के लिए भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं. मंत्री राजभर ने कहा कि सपा और बसपा का गठबंधन हुआ तो भाजपा उत्तर प्रदेश से साफ हो जाएगी. यदि 27 फीसद आरक्षण में बंटवारा कर देते हैं तो मुकबले में आ सकते हैं, लेकिन क्या होगा मालूम नहीं.