लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (भासपा) के प्रमुख व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि सरकार ने अब तक जनता के लिए कोई अच्छा काम नहीं किया है. ऐसे में हो सकता है चुनाव में लोगों को भाजपा से भी कोई अच्छा विकल्प मिल जाए. राजभर ने अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि लोगों ने मोदीजी को तब चुना जब उन्हें कांग्रेस से एक अच्छा विकल्प मिला. तब जनता कांग्रेस से खुश नहीं थी, इसीलिए ये फैसला लिया.Also Read - Who is Sukanta Majumdar: बंगाल भाजपा के सबसे युवा अध्यक्ष बने सुकांत मजूमदार, जानें कौन हैं यह

Also Read - योगी आदित्यनाथ ने कहा- यूपी में जनसंख्या नियंत्रण कानून 'सही समय' पर आएगा, जो करेंगे नगाड़ा बजाकर करेंगे

Also Read - BJP विधायक के भाई ने बदमाशों को AK-47 दी, 188 कारतूस भी मिले, बिहार का सियासी पारा चढ़ा

अपने बयानों से सुखिर्यों में रहने वाले और सत्‍ताधारी पार्टी की उलझन बढ़ाने वाले भासपा के ओमप्रकाश राजभर ने फिर चौंकाने वाला बयान दिया है. उन्‍हेांने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में सरकार बनाकर भाजपा के लोग अपना सीना ठोंक रहे हैं, लेकिन ये भी तब संभव हुआ जब लोग समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से संतुष्ट नहीं थे. उन्होंने कहा कि जनता ने हमें चुना लेकिन हमने अब तक क्या अच्छा कर दिया? हो सकता है कि कल भाजपा से भी अच्छा विकल्प जनता को मिल जाए.

अमित शाह ने राजभर को मुलाकात के लिए दिल्ली बुलाया, BJP को दिया था अल्टीमेटम

मार्च में ओपी राजभर ने कहा था-325 सीट के नशे में पागल हो गए हैं लोग

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख और यूपी सरकार में मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने बीते दिनों कहा था कि बीजेपी के लोग 325 सीट के नशे में पागल होकर घूम रहे हैं. राजभर ने कहा था कि हां हम सरकार का हिस्सा हैं. लेकिन, बीजेपी गठबंधन धर्म का पालन नहीं कर रही है. राजभर ने आगे कहा था कि प्रदेश सरकार सिर्फ मंदिर पर फोकस की हुई है, न कि गरीबों के उत्थान पर. ये वही गरीब हैं, जिन्होंने उन्हें वोट दिया और वे सत्ता में पहुंचे. बता दें कि ओमप्रकाश राजभर ने साल 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के साथ गठबंधन किया था. उनकी पार्टी का पूर्वांचल के कई जिलों में अच्छा प्रभाव है. हालांकि, सरकार बनने के कुछ महीने बाद से ही वह उसकी कार्यप्रणाली से खुश नहीं हैं.