लखनऊ: उत्तर प्रदेश के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर बुधवार को आगरा के पास डौकी क्षेत्र में सर्विस लेन धंसने से एक कार गिरकर खाई में फंस गई. हादसे के बाद कार में फंसे चारों लोगों को सकुशल निकाल लिया गया. हादसे की सूचना मिलते ही उत्तर प्रदेश एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) ने पूरे मामले की जांच बैठा शुरू कर दी है और 15 दिन के अंदर इसकी रिपोर्ट देने का निर्देश दिए. Also Read - गाजियाबाद में नर्सों से बदसलूकी: जमातियों पर लगेगा NSA, CM बोले- मानवता के दुश्मनों को छोड़ेंगे नहीं

  Also Read - निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए 157 लोगों की यूपी में तलाश, 8 इंडोनेशियाई बिजनौर की मस्जिद में मिले

पुलिस के अनुसार, प्रदेश में लगातार बारिश से आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर डौकी क्षेत्र में वाजिदपुर की पुलिया के नीचे कटान हो गया था. बुधवार सुबह करीब 6 बजे सर्विस लेन पर पड़ने वाली इस पुलिया पर जैसे ही कार पहुंची, आगे सड़क धंसी हुई दिखी. यह देखकर कार चालक ने ब्रेक लगा दिया, लेकिन कार जहां खड़ी हुई, वहीं की मिट्टी धंस गई. इससे कार खाई में जाकर मिट्टी के बीच फंस गई. घटना के समय आसपास से गुजर रहे लोगों की मदद से कार में सवार लोग किसी तरह निकलकर वहां से ऊपर पहुंचे. सूचना देकर पुलिस और क्रेन बुलाई गई. निकालने के प्रयास करने के दौरान कार क्रेन से छूटकर एक बार फिर खाई में गिरकर फंस गई. कार को निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं.

भारी बारिश से यूपी बेहाल, रेल व सड़क यातायात प्रभावित, अब तक 85 से ज्‍यादा लोगों की मौत

बारिश से 15 से 20 मीटर तक कटी आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे की सड़क
यूपीडा ने बयान जारी कर कहा कि भारी बारिश के चलते आगरा से 16 किलोमीटर दूरी पर आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे की सड़क बारिश के पानी की वजह से 15 से 20 मीटर तक कट गई थी, जिसकी वजह से यह हादसा हुआ. बयान के मुताबिक, “मरम्मत का काम निर्माण एजेंसी को ही अपने खर्च पर करना है. इस मामले की जांच के लिए थर्ड पार्टी एजेंसी राइट्स लिमिटेड को 15 दिन का समय दिया गया है. इसके अतिरिक्त विभाग ने सभी निर्माण एजेंसियों को निर्देश दिया है कि भारी बारिश की वजह से पूर्ण सतर्कता बरतें एवं पानी निकासी की व्यवस्था करें.

चिंताजनक: आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर नौ महीने में 853 दुर्घटनाएं, 100 लोगों की मौत