लखनऊ: गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनावों में करारी हार झेलने के बाद अब कैराना और नूरपुर में होने वाले उपचुनाव को लेकर भाजपा ज्यादा अलर्ट नजर आ रही है इसी क्रम में ने कैराना लोकसभा उपचुनाव को लेकर भजपा की किलेबंदी तेज हो गई है. भाजपा के प्रदेश महासचिव एवं विधान परिषद सदस्य विजय बहादुर पाठक बीजेपी की उपचुनाव में जीत को लेकर मीडिया से बातचीत में काफी आश्वस्त नजर आने का प्रयास भले ही कर रहे हों पर गोरखपुर और फूलपुर के उपचुनाव परिणाम ने कहीं न कहीं भाजपा के मनोबल को कम जरूर किया है. Also Read - GHMC Election 2020: हैदराबाद में बोले अमित शाह- जीएचएमसी चुनाव में जीत होने के बाद हैदराबाद बनेगा आईटी केंद्र, खत्म होगी निजाम संस्कृति

विपक्ष का गठजोड़ भाजपा को हराने के लिए
भाजपा के प्रदेश महासचिव एवं विधान परिषद सदस्य विजय बहादुर पाठक ने मीडिया से कहा कि विपक्ष लाख कोशिश कर ले लेकिन उनका जातीय गठजोड़ भाजपा को हरा नहीं पाएगा. विजय बहादुर पाठक के अनुसार कैराना लोकसभा उपचुनाव और नूरपुर विधानसभा उपचुनाव में विपक्ष सही मायने में अपने भीतर के दांव-पेंच में उलझा हुआ है. विजय बहादुर कहते हैं कि विपक्ष का जातीय गठजोड़ भाजपा को हराने के लिए बना रहा है न कि अपने जीतने के लिए. जबकि  कैराना में कमल ही खिलेगा. विजय बहादुर पाठक ने पीएम मोदी और सीएम योगी की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नीतियों और लोक कल्याणकारी योजनाओं की बदौलत पार्टी को हर हाल में जीत मिलेगी. और यह जीत हमें काफी बल प्रदान करेगी. Also Read - मैं पार्टी में जाति, धर्म आधारित प्रकोष्ठ के पक्ष में नहीं हूं: नितिन गडकरी

कैराना में कामयाब नहीं होगा अखिलेश का मंसूबा
विधान परिषद सदस्य ने कहा कि अखिलेश यादव अपनी पार्टी को बचाने की लडाई लड़ रहे हैं. इसीलिए वह जातीय गठजोड़ की कवायद में जुटे हैं, लेकिन कैराना में उनका मंसूबा कामयाब नहीं होगा. यहां मोदी की नीतियों की जीत होगी. गौरतलब है कि कैराना और नूरपुर दोनों ही सीटें भाजपा के पास थीं. लेकिन कैराना से सांसद हुकुम सिंह और नूरपुर विधानसभा सीट के विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह के निधन के बाद ये सीटें खाली हुई थी. भावनात्मक वोटों का गणित लगाते हुए कैराना से जहां हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह भाजपा उम्मीदवार हैं, वहीं नूरपुर में दिवंगत विधायक लोकेन्द्र सिंह की पत्नी अवनी सिंह को भाजपा ने मैदान में उतारा है. उपचुनाव के लिए मतदान 28 मई को होना है.
(इनपुट एजेंसी) Also Read - हैदराबाद का यह भाग्‍यलक्ष्‍मी मंदिर नगर निगम की चुनावी जंग के बीच क्‍यों बना सुर्खियों का केंद्र