देहरादून\लखनऊ: केदारनाथ में चट्टान के गिरने से एक महिला तीर्थयात्री की मौत हो गई. महिला उत्तराखंड के गढ़वाल हिमालय में चारधाम की यात्रा पर आई थी. रविवार को अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. बता दें कि बर्फबारी के बावजूद चारों तीर्थस्थलों- केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री जाने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ रही है. प्रतिदिन औसतन 15 हजार तीर्थयात्री केदारनाथ और बद्रीनाथ का दर्शन करने आ रहे हैं.

राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) के अनुसार, पंजाब के मलेरकोटला की रहनेवाली ओजस्वी (28) शनिवार को रामबाड़ा और लिचोली क्षेत्र के बीच चट्टान के गिरने से घायल हो गई थी. सिर में गहरी चोट लगने के कारण बाद में उसकी मौत हो गई. केदारनाथ में शनिवार से रुक-रुक कर लगातार बर्फबारी हो रही है. इसे देखते हुए तीर्थयात्रियों को चिकित्सीय सुविधा व अन्य सहायता पहुंचाने के लिए एसडीआरएफ कर्मियों को अलर्ट पर रखा गया है. कानून एवं व्यवस्था के महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि हमने एसडीआरएफ कर्मियों को अलर्ट पर रहने और तीर्थयात्रियों को हर तरह की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कहा है.

तिरुपति मंदिर के पास 9000 किलो से ज्यादा सोना, जानें छिपा कहां है…

बर्फबारी के बावजूद रोजाना आ रहे हजारों तीर्थयात्री
बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपियाल ने कहा कि बर्फबारी के बावजूद चारों तीर्थस्थलों – केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री जाने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ रही है. प्रतिदिन औसतन 15 हजार तीर्थयात्री केदारनाथ और बद्रीनाथ का दर्शन करने आ रहे हैं. थपियाल ने कहा कि शनिवार तक करीब 31,801 तीर्थयात्री बदरीनाथ मंदिर के दर्शन कर चुके हैं. इसी तरह हर रोज करीब 6,000 तीर्थयात्री गंगोत्री और यमुनोत्री पहुंच रहे हैं.

बाबा केदारनाथ के दर श्रद्धालुओं के लिए फिर खुले, इसके साथ ही चार धाम यात्रा शुरू