नई दिल्ली: यूपी के कानपुर के बिठूर इलाके के बिकरू गाँव में आठ पुलिस वालों की हत्या करने वाले दुर्दांत अपराधी विकास दुबे की मदद करने वाले पुलिसकर्मियों पर भी गाज गिरना शुरू हो गई है. इलाके के चौबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी को अरेस्ट कर लिया गया है. इसके साथ ही एक अन्य सब इंस्पेक्टर केके शर्मा को भी अरेस्ट किया गया है. Also Read - विकास दुबे के गांव में दबिश देने से पहले का पुलिस का ऑडियो अब हुआ वायरल, पूर्व SSP की बढ़ेगी मुसीबत

विनय तिवारी को सस्पेंड करने के बाद पूछताछ की जा रही थी. एसटीएफ ने अब विनय को अरेस्ट कर लिया गया है. बताते हैं कि विनय तिवारी ने एक मामले में पीड़ित की विकास दुबे से सुलह कराने की कोशिश की थी. इसके बाद जब पुलिस विकास दुबे को अरेस्ट करने गई थी, तब विनय तिवारी पुलिस टीम के साथ था, लेकिन वह पीछे से भाग गया था. इसके बाद विकास दुबे और उसके साथियों ने सीओ देवेन्द्र मिश्र सहित पुलिस टीम पर हमला कर दिया था. Also Read - Kanpur Encounter: विकास दुबे के सहयोगी जय बाजपेयी पर मामला दर्ज, काली कमाई को करता था निवेश

इस हमले में आठ पुलिस वाले शहीद हो गए थे. बताया जा रहा है कि रेड की जानकारी विनय तिवारी ने पहले ही विकास दुबे को दे दी थी. पहले ही जानकारी मिलने के चलते विकास दुबे ने पुलिस पर हमला करने की पहले ही तैयारी कर ली थी. इस मामले ने सभी को हिलाकर रख दिया. विकास दुबे के कई करीबियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार दिया है. जबकि विकास दुबे को पकड़ने के लिए अभियान जारी है. विकास दुबे पर पांच लाख का इनाम घोषित किया गया है. Also Read - विकास दुबे को मिली बेल से ''स्तब्ध'' SC, यूपी सरकार से कहा- विधि का शासन बनाए रखना होगा