लखनऊ: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1076 की शुरूआत की. इस हेल्पलाइन पर 24 घंटे लोगों की समस्याएं सुनी जाएंगी और मुख्यमंत्री खुद इसकी निगरानी करेंगे. प्रदेश के किसी भी स्थान से शिकायतकर्ता इस हेल्पलाइन पर फोन कर शिकायत दर्ज करवा सकता है. यह सुविधा 24 घंटे उपलब्ध रहेगी. यह हेल्पलाइन शिकायतकर्ता की परेशानी का जब तक निराकरण नहीं करती, तब तक इसका फॉलोअप किया जाएगा. शिकायत तभी बन्द होगी जब शिकायतकर्ता खुद कहेगा कि उसकी समस्या का समाधान हो गया है. झूठी शिकायत करने पर शिकायतकर्ता के खिलाफ कार्रवाई होगी. Also Read - UP Legislative Council की 11 सीटों पर मतगणना जारी, जल्‍द आएंगे परिणाम

Also Read - 4 साल का मासूम बोरवेल में गिरा, रोने की आवाजें सुनाई दे रहीं, ऑक्‍सीजन पहुंचाई, रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन जारी

  Also Read - लखनऊ नगर निगम के बॉन्ड की होगी खरीद-फरोख्त, बीएसई में हुई लिस्टिंग

मुख्यमंत्री योगी ने लोकभवन में मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1076 का लोकार्पण करते हुए कहा कि यह जनता के प्रति सरकार की जवाबदेही तय करेगी. लोकतंत्र में जनता से संवाद जरूरी है और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन इसका बड़ा साधन बनेगी. उन्होंने कहा कि जनता के बीच जाकर पता चलता है कि लाभार्थी को सुविधा तो मिली लेकिन वह इस बात से अन्जान होता है कि यह सुविधा उसे सरकार द्वारा मिली है. उन्होंने संवादहीनता को इसका कारण बताया. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस हेल्पलाइन नंबर में एक दिन में 80 हजार इनबाउण्ड कॉल्स और 55 हजार आउटबाउण्ड कॉल्स की क्षमता है.

भ्रष्ट पुलिस अधिकारियों के खिलाफ अभियान चलाएगी यूपी सरकार, करेगी जबरन रिटायर

इस हेल्पलाइन के माध्यम से किसी भी विभाग से जुड़ी शिकायत दर्ज कराने के 3-4 दिन के भीतर शिकायतकर्ता से पूछा जाएगा कि उसकी शिकायत का निस्तारण हुआ या नहीं. शिकायत का समाधान न करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. योगी ने कहा कि अब तक प्रदेश के दूरदराज के इलाकों से लोगों को रुपये खर्च कर अपनी समस्या के हल के लिए लखनऊ आना पड़ता था. हेल्पलाइन शुरू होने से शिकायतकर्ता घर बैठकर अपनी समस्या शासन तक पहुंचा पाएंगे. उन्होंने बताया कि इस हेल्प लाइन के शुरू होने से 500 युवाओं को रोजगार मिला.

भ्रष्टाचार के खिलाफ योगी सरकार का बड़ा कदम, 600 अधिकारियों पर की कार्रवाई