लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के लिए जांच क्षमता को बढ़ाकर 50 हजार नमूने प्रतिदिन करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि आरटी-पीसीआर से 30 हजार नमूनों, रैपिड एन्टीजन जांच से 18-20 हजार नमूनों तथा टरूनैट मशीन से 2-2.5 हजार नमूनों की जांच प्रतिदिन किए जाए. उन्होंने वाराणसी, बलिया, गाजियाबाद तथा झांसी में जांच के लिए एकत्र नमूनों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए है. Also Read - बागपत में भाजपा नेता की गोली मारकर हत्या, योगी आदित्यनाथ ने जताया दुख

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को यहां एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे. उन्होंने प्रत्येक शनिवार तथा रविवार को पूरे प्रदेश में स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन का विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि स्वच्छता तथा सेनिटाइजेशन का कार्य कोविड-19 के साथ-साथ वेक्टर जनित रोगों को भी रोकने में काफी सहायक है. Also Read - Coronavirus Cases In Bareilly: बरेली सेंट्रल जेल में कोरोना बनी महामारी, इतने कैदी संक्रमित

मुख्यमंत्री ने कहा कि सोमवार से शुक्रवार तक सभी बाजार खुलेंगे. केवल निषिद्ध क्षेत्र में दुकानें नहीं खुलेंगी. शनिवार तथा रविवार को बाजार बंद रहेंगे. इस प्रकार पूरे प्रदेश में बाजारों की साप्ताहिक बंदी शनिवार तथा रविवार को होगी. उन्होंने निर्देश दिए कि साप्ताहिक बंदी के दौरान बाजारों में स्वच्छता तथा सेनिटाइजेशन का विशेष अभियान संचालित किया जाए. Also Read - Gautam Buddha Nagar: सीएम योगी ने 400 बेड वाले कोविड अस्पताल का किया उद्घाटन, बना जिले का सबसे बड़ा हॉस्पिटल

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि निगरानी टीम घर-घर जाकर लोगों की जांच करें. संदिग्ध लक्षणों वाले लोगों की चिकित्सकीय जांच की जाए. जांच में कोविड-19 से संक्रमित पाए गए लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था की जाए. अस्पतालों में वरिष्ठ चिकित्सक मरीजों से जरूर मिलें.

उन्होंने वाराणसी, झांसी, कानपुर नगर, बरेली, देवरिया, गोरखपुर, बलिया तथा आजमगढ़ जिले में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि अधिक संक्रमण वाले जिलों में मेडिकल जांच के लिए मोबाइल जांच वैन का उपयोग किया जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सामाजिक दूरी तथा मास्क के उपयोग को जीवनशैली का अंग बनाना होगा. इसके लिए लोगों को निरन्तर जागरूक करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि मास्क न पहनने पर प्रवर्तन की प्रभावी कार्यवाही की जाए. कोविड-19 से सुरक्षा सम्बन्धी नियमों का पूर्ण पालन कराया जाए.

उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को जिलों में मुख्य चिकित्सा अधिकारियों तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग को सभी चिकित्सा महाविद्यालयों के प्रधानाचार्यों से नियमित संवाद रखते हुए कार्यों की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश भी दिए.