शाहजहांपुर: पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लॉ की छात्रा के सोमवार को न्यायालय में बयान दर्ज किए गए. इसके कुछ ही घंटे बाद आरोप से घिरे चिन्मयानंद की तबीयत देर शाम खासी बिगड़ गई. यौन उत्‍पीड़न के मामले में शिकायतकर्ता लॉ की छात्रा ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की कोर्ट में बयान दर्ज कराए.

पीड़िता को कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायिक दंडाधिकारी (प्रथम) गीतिका सिंह की कोर्ट में ले जाकर उसका बयान दर्ज कराया गया. छात्रा ने बताया कि मजिस्ट्रेट ने करीब 12 पेज में उसका बयान दर्ज किया है. उसने दिल्ली में जीरो क्रमांक पर दर्ज रिपोर्ट, उसके हॉस्पिटल के कमरे से चिप और चिन्मयानंद के मालिश वाले वीडियो शूट करने में इस्तेमाल चश्मे के चोरी होने तथा अन्य साक्ष्यों का जिक्र भी अपने बयान में किया है.

चिन्मयानंद के खिलाफ रेप का आरोप जोड़ा जा सकता है
दुष्कर्म और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा ने सोमवार को आरोपी के खिलाफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की कोर्ट में धारा 164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया था. वहीं, एसआईटी सूत्रों ने कहा कि कोर्ट में पीड़िता के बयान के बाद, चिन्मयानंद के खिलाफ दर्ज मामले में दुष्कर्म का आरोप जोड़ा जा सकता है.

बेडरूम से चादर, गद्दा, शराब की बोतलें जैसे साक्ष्य गायब कर दिए गए 
छात्रा ने यह भी बताया कि स्वामी चिन्मयानंद के बेडरूम से चादर, गद्दा, शराब की बोतलें आदि जो साक्ष्य गायब कर दिए गए थे, उनका जिक्र भी उसने न्यायालय में दिए गए बयान में किया है. इस बीच, शाम को स्वामी चिन्मयानंद की तबीयत खराब हो गई.

तबीयत अचानक बिगड़ी, सीने में हुआ तेज दर्द
चिन्मयानंद के वकील एवं प्रवक्ता ओम सिंह ने बताया कि पूर्व गृह राज्य मंत्री को रविवार रात से ही हल्का बुखार था और सोमवार शाम करीब 8:30 बजे उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गई. उन्हें सीने में तेज दर्द हुआ और शुगर लेवल बहुत नीचे गिर गया. साथ ही ब्लड प्रेशर भी असामान्य हो गया. मेडिकल कॉलेज के तथा प्राइवेट डॉक्टरों की टीम उनके आवास पर उनका इलाज कर रही है.

प्राइवेट चार डॉक्‍टरों की टीम ने किया इलाज
मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर डॉक्टर एम एल अग्रवाल ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि स्वामी चिन्मयानंद की तबीयत खराब हो गई है. इसी के चलते हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर के सी वर्मा के साथ उन्होंने स्वामी चिन्मयानंद के दिव्य धाम में आकर उनका इलाज किया. इस दौरान एक प्राइवेट नर्सिंग होम से चार डॉक्टरों की एक टीम भी बुलाई गई है. फिलहाल उनकी हालत स्थिर है.

एसआईटी ने स्‍कूटी को लेकर पूछताछ की
इस बीच, सूत्रों ने बताया कि विशेष जांच दल (एसआईटी) की टीम ने पीड़िता को स्वामी चिन्मयानंद द्वारा दिलवाई गई एक स्कूटीके संबंध में एजेंसी के मैनेजर को बुलाकर पूछताछ की. इसके अलावा एक मेडिकल स्टोर के स्वामी से भी इस सिलसिले में पूछताछ की गई कि चिन्मयानंद उनके यहां से कौन-कौन सी दवाएं मंगाते थे.

छात्रा ने चिन्मयानंद पर लगाया था रेप का आरोप
स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम की एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल करके चिन्मयानंद पर कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने एवं उसे और उसके परिवार को जान का खतरा बताया था. इसके बाद लड़की लापता हो गई थी. इस मामले में चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया गया था. बाद में राजस्थान में बरामद की गई छात्रा ने चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप भी लगाया था. इस सिलसिले में उसने पुलिस पर रिपोर्ट दर्ज न करने का इल्जाम भी लगाया था. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित एसआईटी इस मामले की जांच कर रही है.

ओम जी की जीभ काट कर लाने वाले को 50 लाख के इनाम का ऐलान
वहीं, चिन्मयानंद के समर्थन में रविवार को आए एक हिंदू संगठन के अध्यक्ष स्वामी ओम जी एवं मुकेश जैन का शाहजहांपुर में विरोध शुरू हो गया है. सोमवार को मुकेश जैन ने शाहजहांपुर की बेटियों को विषकन्या बताया था, इसके बाद सोशल मीडिया पर इनका जबरदस्त विरोध हो रहा है. छात्र शक्ति संगठन के कार्यकर्ताओं ने कचहरी चौराहे के पास ओम जी का पुतला फूंका और उनकी जीभ काट कर लाने वाले को 50 लाख रुपए के इनाम का ऐलान किया.

भारतीय युवा परिषद के कार्यकर्ताओं ने चिन्मयानंद का पुतला फूंका
वहीं, भारतीय युवा परिषद के कार्यकर्ताओं ने स्वामी चिन्मयानंद के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए खिरनी बाग चौराहे पर चिन्मयानंद का पुतला फूंका. इसके अलावा ओम जी के विरुद्ध जिले के कई थानों में विषकन्या के बयान पर रिपोर्ट दर्ज करने के लिए तहरीर दी गई है. इस बीच, स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि चिन्मयानंद के निर्देश पर एक टीम बना दी गई है जो सोशल मीडिया पर उनके विरुद्ध अनर्गल टिप्पणियां कर रहे हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.