मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश UTTAR PRADESH) के मुजफ्फरनगर ( Muzaffarnagar) जिले के सोरम गांव में भाजपा अैर रालोद समर्थकों के बीच हुई झड़प के एक दिन बाद मंगलवार को केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान (Sanjeev Balyan)ने आरोप लगाया कि यह घटना विपक्षी दल की पूर्वनियोजित साजिश थी और एक मस्जिद (mosque) से किए गए ऐलान के जरिए उन्हें उकसाया गया. Also Read - UP: तीन साल की बच्‍ची का अपहरण कर पंजाब भागी बुआ, प्रेमी के साथ अरेस्‍ट

केंद्रीय राज्‍य मंत्री संजीव बालियन (Sanjeev Balyan) ने मंगलवार को कहा- समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के उम्मीदवार के परिवार के 10-12 परिवार के सदस्यों ने मेरे साथ भैंसवाल में दुर्व्यवहार किया. जब मैं एक समारोह में भाग लेने के लिए सोरम में था तब 5-6 लोकदल के कार्यकर्ताओं ने वही किया. मेरे जाने के बाद, एक झड़प हुई. मेरे खिलाफ एकजुट होने के लिए मस्जिद से घोषणाएं की गईं. Also Read - UP: Mukhtar Ansari से जुड़े लोगों की प्रॉपर्टी को लखनऊ में ढहाना शुरू किया गया

सोरम गांव में सोमवार को एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का कुछ लोगों ने विरोध किया था, जिसके बाद बीजेपी कार्यकर्ता और विरोध कर रहे लोग आपस में भिड़ गए थे. इस घटना में तीन से चार लोग घायल हुए थे.

स्थानीय सांसद बालियान ने कहा कि उन्होंने स्थानीय अधिकारियों से मामले की जांच करने का अनुरोध किया है. राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) प्रमुख अजित सिंह भी मंगलवार को घटना में घायल हुए लोगों को देखने पहुंचे.

बालियान ने आरोप लगाया, ”झड़प में शामिल लोग किसान नहीं बल्कि रालोद के पदाधिकारी थे. यह पूर्वनियोजित झड़प थी, वरना सोशल मीडिया पर वीडियो तत्काल कैसे सामने आए या रोलाद नेता के ट्वीट तत्काल कैसे सामने आए.”

22 फरवरी को मुजफ्फरनगर में भाजपा कार्यकर्ताओं और युवकों के बीच झड़प, तीन लोग हुए थे घायल
मेरठ से सटे मुजफ्फरनगर जिले के थाना शाहपुर क्षेत्र के सोरम गांव में सोमवार यानि 22 फरवरी को एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान का कुछ लोगों ने विरोध किया, जिसके बाद बीजेपी कार्यकर्ता और विरोध कर रहे लोग आपस में भिड़ गए. इस घटना में तीन लोग घायल हो गए.

झड़प में घायल तीन लोगों को RLD नेता थाना पहुंचे थे
इलाके के थाना प्रभारी संजीव कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के नेता एवं पूर्व मंत्री योगराज सिंह घटना में घायल हुए तीन लोगों को लेकर थाने आए थे, उन्हें मामूली चोटें आई थीं और तीनों को प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया है. उन्होंने बताया कि अभी तक घटना के संबंध में कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है.

रालोद नेताओं का आरोप, बालियान का विरोध करने वालों की पिटाई की गई
रालोद नेताओं का आरोप है कि सोरम गांव में एक कार्यक्रम में गए बालियान का विरोध करने वालों की पिटाई की गई. उन्होंने कहा कि कुछ युवकों ने बालियान का विरोध कर रहे युवकों की पिटाई की जिसके बाद दोनों पक्षों में संघर्ष हुआ. संजीव बालियान के जाने के बाद सोरम गांव में पंचायत हुई. पंचायत में कहा गया कि हमला करने वाले केंद्रीय मंत्री के साथ ही थे.

रालोद नेता जयंत चौधरी ने ट्वीट किया था
झड़प के बाद रालोद नेता जयंत चौधरी ने ट्वीट किया था, ” सोरम गांव में बीजेपी नेताओं और किसानों के बीच संघर्ष हुआ है. कई लोग घायल हैं. किसान के पक्ष में बात नहीं होती तो कम से कम व्यवहार तो अच्छा रखो. किसान की इज़्ज़त तो करो. इन कानूनों के फायदे बताने जा रहे सरकार के नुमाइंदों की गुंडागर्दी बर्दाश्त करेंगे गांववाले? ”

केंद्रीय मंत्री ने भी किया था ट्वीट
वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने ट्वीट किया, ” आज जब सोरम में स्वर्गीय श्री राजबीर सिंह जी की शोकसभा एवं रस्म पगड़ी में शामिल हुआ तो राष्ट्रीय लोकदल के पांच-छह नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने बदतमीजी और गाली गलौज की. इस पर स्थानीय निवासियों ने उन्हें ऐसा करने से मना किया और वहां से भगा दिया. लोकदल पार्टी ने जिस तरह से किसानों की आड़ में आपसी भाईचारा खराब करने का प्रयास किया वह निंदनीय है.” रालोद के राष्ट्रीय महासचिव एवं प्रदेश के पूर्व सिंचाई मंत्री मैराजुउदीन अहमद ने घटना पर कहा कि इस लड़ाई में सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को होगा.