लखनऊ: उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के दो साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को अपना लेखा-जोखा प्रस्तुत किया. इस दौरान उन्होंने भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि सपा-बसपा के कार्यकाल में लगातार दंगे होते थे, लेकिन भाजपा के 24 महीने के कार्यकाल में कोई दंगा नहीं हुआ. उन्होंने कहा, “प्रदेश की पहचान एक बीमारू राज्य के रूप में होती थी, लेकिन पिछले दो साल में प्रदेश की छवि बदली है. हमारी सरकार आने के बाद 86 लाख किसानों का कर्ज माफ किया गया. प्रदेश की कानून-व्यवस्था में सुधार हुआ है.”

योगी आदित्यनाथ ने कहा, “हमारी सरकार ने पिछले 10 साल से ज्यादा काम किया है. उन्होंने कहा कि 1990 के बाद सपा को चार बार और बसपा को तीन बार प्रदेश को चलाने का मौका मिला था. सपा-बसपा के शासन काल में प्रदेश में 7 बार व्यापक अराजकता का दौर रहा.” मुख्यमंत्री ने कहा, “पिछले दो साल में 74 कुख्यात अपराधी मारे गए. 12,000 से ज्यादा अपराधियों का एनकाउंटर किया गया. महिलाओं में सुरक्षा की भावना आई. इन दो वर्षों में एसिड अटैक की एक भी घटना नहीं हुई.” उन्होंने कहा कि प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट के द्वारा करीब चार लाख 28 हजार करोड़ रुपये निवेश के प्रस्ताव पास हुए.

टीवी पर दिखेंगे भाजपा के 23 तरह के विज्ञापन, आयोग ने दी मंजूरी

उन्होंने कहा, “प्रदेश के गन्ना किसानों की स्थिति बदहाल हो गई थी, उनके बकाये नहीं दिए गए थे. प्रदेश के अंदर पूरी तरह से अराजकता की स्थिति हो गई थी. ऐसी स्थिति में हमारे ऊपर प्रदेश की जिम्मेदारी आई थी.” उन्होंने कहा कि हमने 24 महीने में प्रदेश की उस तस्वीर को बदलने की कोशिश की है, जिसके ऊपर कई बदनुमा दाग लगे थे. इस दौरान उनके साथ पार्टी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय, उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद रहे.