देहरादून/लखनऊ: विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर उत्‍तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के नेतृत्व में दौड़वाला, देहरादून में मिशन रिस्पना से ऋषिपर्णा के लिए पौधरोपण के लिए गड्ढे तैयार किये गये. इस दौरान सीएम ने कहा कि रिस्पना और कोसी नदी के किनारे जन सहयोग से एक दिन में 3.5 लाख पौधे लगाये जायेंगे. इससे पूर्व सीएम ने मुख्यमंत्री आवास में भी पौधरोपण किया. Also Read - Pythons Viral Video: खेत में घुसे दो खतरनाक अजगर, ऐसे किया गया रेस्क्यू, देखें...

Also Read - ITBP Jawans Real Heroes: भीषण बाढ़ के बीच 15 घंटे तक 40 किमी पैदल चले आईटीबीपी जवान, महिला को पहुंचाया अस्पताल, देखें Video

बता दें कि मिशन ऋषिपर्णा के अन्तर्गत रिस्पना के उद्गम लण्ढ़ौर शिखर फाल से मोथरोवाला-दौड़वाला तक कुल 32 किमी क्षेत्र में विभिन्न प्रजाति के 2.5 लाख वृक्ष लगाये जायेंगे. इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि रिस्पना से ऋषिपर्णा सरकार का दीर्घकालिक एवं महत्वाकांक्षी अभियान है. इस मिशन में स्थानीय लोगों के अलावा विभिन्न सरकारी और गैरसरकारी संगठनों, संस्थाओं एवं अन्य प्रदेशों के लोगों का सहयोग भी मिल रहा है. रिस्पना एवं कोसी के पुनर्जीवीकरण के लिए हरेला पर्व के दौरान एक दिन निर्धारित कर 3.5 लाख पौधे लगाये जायेंगे. वृक्षारोपण का यह कार्य पूर्ण रूप से जन सहयोग से किया जायेगा. Also Read - भारी बारिश ने बढ़ाई गांववालों की मुश्किलें, बह गए ब्रिज और रास्ते, तो खुद बनाने लगे कामचलाउ पुल

देहरादून में हुआ पहला अंतरराष्ट्रीय T-20 क्रिकेट मैच, मैच देखने पहुंचे सीएम

पहले चरण में रिस्पना एवं कोसी नदी को पुनर्जीवित करने का लक्ष्य

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रारम्भिक चरण में रिस्पना एवं कोसी नदी को पुनर्जीवित करने का लक्ष्य रखा गया है. इसके बाद अन्य जल स्रोतों को भी पुनर्जीवित किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पर्यावरण का संरक्षण, हम सब की सामूहिक जिम्मेदारी है. वर्ष-2018 में विश्व पर्यावरण दिवस की मेजबानी भारत कर रहा है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्लास्टिक मुक्त भारत का जो आह्वाहन किया है, उसमें सबका सहयोग जरूरी है.

31 जुलाई को उत्‍तराखंड में पॉलीथीन पर पूर्ण प्रतिबंध

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा कि 31 जुलाई से उत्तराखण्ड में पालीथीन पूर्ण रूप से प्रतिबन्धित की जायेगी. सभी पालीथीन के थोक विक्रेताओं को इससे पूर्व पालीथीन का स्टाक समाप्त करने के लिए कहा गया है. उन्होंने कहा कि इससे एक सप्ताह पूर्व पूरे प्रदेश में पालीथीन से होने वाले पर्यावरणीय नुकसान पर व्यापक स्तर पर जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा. उत्तराखण्ड को पालीथीन मुक्त राज्य बनाने के लिए सामाजिक संगठनों के अलावा जन सहयोग आवश्यक है.

पौधरोपण में लगाए जाएंगे 30 प्रतिशत फलदार पौधे

डीएम एसए. मुरूगेशन ने बताया कि लण्ढ़ौर शिखर फाल से मोथरोवाला-दौड़वाला तक तक पौधरोपण के लिए 39 ब्लाक बनाये गये हैं. सम्पूर्ण क्षेत्र में अनेक प्रजाति के पौधे लगाये जायेंगे. इसमें 30 प्रतिशत फलदार वृक्ष लगाये जायेंगे. उन्होंने कहा कि इस मिशन में सबका अच्छा सहयोग मिल रहा है. इस अवसर पर विधायक विनोद चमोली, भाजपा महानगर अध्यक्ष विनय गोयल, गढ़वाल राईफल के जवानों एवं स्थानीय लोगों ने भी दौड़वाला में वृक्षारोपण के लिए गड्ढे तैयार किये. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इसके उपरान्त मुख्यमंत्री आवास में भी पौधरोपण किया. उन्होंने विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर लीची, अनार, अमरूद, आडू, प्लम, नाशपाती के उच्च गुणवत्ता के पौधे लगाये.