नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को कुंभ में आना चाहिए क्योंकि यहीं गोत्र दिखाने और जनेऊ प्रदर्शन करने का मौका है. योगी ने एक टीवी चैनल के एक कार्यक्रम में कहा, ‘मोदीजी के कारण कुंभ को यूनेस्को ने सांस्कृतिक धरोहर के रूप में मान्यता दी है. बीते दिनों 70 देशों के राजनयिकों ने कुंभ क्षेत्र का दौरा किया और इसे अद्भुत बताया था. हमारा प्रयास है कि कुंभ की तैयारी के साथ प्रयागराज के इंफ्रास्ट्रक्चर में भी सुधार हो जाए.’Also Read - Rahul Gandhi Defamation Case: राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि मामले में सुनवाई 13 नवंबर तक टली, जानिए पूरा मामला

Also Read - सिद्धू का नया पैंतरा-पहले इस्तीफा, फिर लिया वापस, अब सोनिया गांधी को लिखा खत, मिलना चाहता हूं

सूखे से जूझने वाले बुंदेलखंड की 4 नदियों का पानी जानलेवा, इलाके की ‘गंगा’ बेतवा भी हुई जहरीली Also Read - फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं राहुल गांधी, CWC की बैठक में बोले- नेताओं ने दबाव बनाया तो विचार करूंगा

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी को कुंभ में आना चाहिए क्योंकि यही गोत्र दिखाने और जनेऊ प्रदर्शन करने का मौका है. कुंभ के आयोजन में कोई भेदभाव नहीं है. राहुल गांधी अगर कुंभ में आएं तो हम उनका स्वागत करेंगे. हमने किसी को जाति-धर्म में नहीं बांटा है.’ विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत को लेकर सवाल उठाते हुए योगी ने कहा कि भाजपा ने मध्य प्रदेश में अच्छा काम किया और 41 फीसदी वोट हासिल किए, जो कि कांग्रेस से भी ज्यादा हैं. कांग्रेस ने झूठ बोलकर जनता को गुमराह किया है और चुनाव जीता. योगी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा उत्तर प्रदेश, बिहार पर दिए बयान को शर्मनाक बताया और राहुल से माफी मांगने की अपील की.

बुलंदशहर हिंसा थी साजिश, राजनीतिक आधार खो चुके लोगों ने कराया बवाल: सीएम योगी

महागठबंधन पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि खुद महागठबंधन की पार्टियां राहुल गांधी को नेता मानने के लिए तैयार नहीं हैं, ऐसे में 2019 का चुनाव अगर उनके नेतृत्व में लड़ा गया तो भाजपा के लिए लड़ाई आसान हो जाएगी. राम मंदिर पर अध्यादेश लाने के मामले पर योगी ने कहा कि इस पर चर्चा की जरूरत है कि जब मामला अदालत में लंबित है तब क्या किया जा सकता है. इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय को तेजी लानी होगी और देश के विकास के लिए इस मुद्दे का खत्म होना जरूरी है. कांग्रेस को राम मंदिर विवाद की जड़ बताते हुए योगी ने कहा कि कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने शीर्ष अदालत में अपील दायर की थी कि 2019 से पहले इसका फैसला न हो. कांग्रेस देश को धर्म, जाति, भाषा और क्षेत्रवाद में बांटना चाहती है. उन्होंने कहा, ‘आजादी के बाद भाजपा की सरकारों ने किसानों के लिए जितना काम किया है उतना इतिहास में किसी ने नहीं किया.