लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि फरवरी 2018 में लखनऊ में हुई इन्वेस्टर्स समिट(निवेशक सम्मेलन) के बाद सूबे में निजी तथा सार्वजनिक क्षेत्र में कुल 2.75 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश हुआ है. योगी ने 65 हजार करोड़ रुपये से बनने वाली 250 से ज्यादा परियोजनाओं के शिलान्यास के लिये आयोजित ‘ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी—2’ में कहा कि इन्वेस्टर्स समिट के बाद अगर हम निजी निवेश की बात करते हैं तो लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश उत्तर प्रदेश में अब तक सम्पन्न हो रहा है. सार्वजनिक निवेश की भी बात करें तो यह भी लगभग एक लाख 25 हजार करोड़ रुपये से अधिक का निवेश हम उत्तर प्रदेश में करने में सफल हुए हैं.

 

उन्होंने कहा ‘इसके माध्यम से सरकार ने प्रदेश में लगभग 28 लाख नौजवानों को ना केवल रोजगार बल्कि विभिन्न क्षेत्रों में नौकरियों की सम्भावनाएं उपलब्ध करायी हैं.’ योगी ने कहा कि उनकी सरकार ने वर्ष 2017 में हुए विधानसभा चुनाव के लिये तैयार किये गये भाजपा के लोक कल्याण पत्र के वादों को मंत्र मानकर काम शुरू किया. उसी का परिणाम है कि हमें हर क्षेत्र में कामयाबी मिलती दिख रही है. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश ने दो वर्ष में देश में सबसे ज्यादा निर्यात करने वाला राज्य बनने में सफलता प्राप्त की है. एक साल में ही प्रदेश से निर्यात 28 फीसद बढ़ा है.

यूपी से होकर जाता है भारत को 5 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का रास्ता: शाह

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश में सभी निवेशकों का स्वागत और अभिनन्दन करते हैं. पिछले 15 वर्षों में उत्तर प्रदेश को लेकर जो नजरिया बना था, उसे बदलने के लिये और यहां निवेश का इरादा दिखाने के लिये वह निवेशकों को धन्यवाद देते हैं. उन्होंने कहा कि वह सभी निवेशकों को आश्वस्त करते हैं कि उत्तर प्रदेश उन सभी का स्वागत करेगा और उन्हें शासन की नीतियों के तहत सहायता उपलब्ध कराएगा.