कानपुर :  सीएम योगी आदित्यनाथ ने विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कानपुर नगर निगम को ओडीएफ घोषित होने पर बधाई दी. इस अवसर पर बोलते हुए सीएम योगी ने पीएम नरेंद्र मोदी का नमामि गंगे परियोजना शुरू करने पर आभार भी जताया. सीएम योगी ने कहा कि कानपुर दानवीर कर्ण की एक छोटी सी नगरी थी इस छोटे से नगर ने औद्योगिक शहर का रूप लिया और अपनी पहचान बनाई. उन्होने कहा कि पीएम मोदी ने नमामि गंगे योजना को लागू किया इससे इको टूरिज्म के क्षेत्र में अनेक सम्भावाएं बढ़ गई हैं.

प्लास्टिक कचरे से सबसे ज्यादा प्रदूषण
सीएम योगी ने कहा कि गंगा मैया का दर्शन कर आप खुद को पुरानी विरासत के साथ जोड़ते हैं. उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में गंदगी का मुख्य कारण प्लास्टिक है. प्लास्टिक जीवन के लिए खतरा है. इसके चलते गंगा की स्थिति दयनीय हो गई  है. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि गंगा को मां कहा जाता है तो पुत्र होना सार्थक कर दिखाएं. हर एक को गंगा की सफाई के अभियान के साथ जुड़ना होगा. उन्होंने कहा कि प्रकृति जब-जब करवट लेगी, तब-तब संतुलन बिगड़ेगा. सीएम योगी ने कहा कि उन्होंने सत्ता में आते ही अवैध स्लाटर हाउस बन्द कराए. नदी में गंदे नाले बहाने से भू-गर्भ जल में आर्सेनिक और फ्लोराइड बढ रहा है ऐसे क्षेत्रों में कैंसर के मरीज बढ रहे हैं.

गंगा में टेनरियों का पानी नहीं गिरेगा
सीएम ने पर्यावरण दिवस पर गंगा की सफाई के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि बीमारियां बढ़ने का कारण नदियों का प्रदूषण है. बड़ी-बड़ी सभ्यताएं उजड़ने का कारण नदियों का प्रवाह बदलना है. सीएम ने टेनरी मालिकों को चेतावनी देते हुए कहा कि 15 दिसम्बर की डेड लाइन के बाद कोई भी नाला गंगा में नही गिरने देंगे. सीएम ने कहा कि सरकार टेनरियों को जगह दे रही है शिफ्ट करने की तैयारी कर ले गंगा में कोई नाला नही गिरना चाहिए.