नई दिल्लीः कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में कथित घोटाले और अनामिका शुक्ला प्रकरण की न्यायिका जांच होनी चाहिए. पार्टी के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने यह सवाल भी किया कि जब उत्तर प्रदेश सरकार ने खुद मान लिया है कि भर्ती प्रक्रिया में घोटाला हुआ है तो फिर कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है? उन्होंने वीडियो लिंक के माध्यम से संवाददाताओं से कहा, ‘‘ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की ओर से शिक्षक भर्ती मामले में कार्रवाई की बात बार बार रखी गई, लेकिन उप्र सरकार के कान पर जूं नहीं रेंगी.’’ Also Read - UP Covid-19 Updates: BJP के बड़े नेता का कोरोना से निधन, PM-HM से लेकर CM और जेपी नड्डा ने दी श्रद्धांजलि

शुक्ला ने कहा कि अनामिका शुक्ला नामक महिला के नाम पर प्रदेश में जगह जगह लोगों को नौकरियां दी गईं और घोटाला किया गया. हम इसकी जांच चाहते हैं. सरकार ने स्वीकार कर लिया कि घोटाला हुआ है. उन्होंने सवाल किया कि जब बेसिक शिक्षा मंत्री ने घोटाला स्वीकार कर लिया कि गड़बड़ी हुई तो फिर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है? Also Read - UP Panchayat Election Results: यूपी पंचायत चुनाव में BJP का प्रदर्शन क्यों खराब रहा, ये हैं बड़े कारण

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘ हमारी मांग है कि इस मामले की न्यायिक जांच हो. यह जांच उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश द्वारा करायी जाए. पूरी भर्ती प्रक्रिया की जांच होनी चाहिए.’’ उन्होंने यह आग्रह भी किया, ‘‘अनामिका शुक्ला की नौकरी की व्यवस्था हो और प्रदेश सरकार को उनकी बदनामी के लिए उनसे क्षमा मांगनी चाहिए. उनके परिवार को सुरक्षा भी दी जानी चाहिए.’’ Also Read - कांग्रेस ने कहा- TMC वर्कर्स ने हमारे कार्यकर्ताओं पर भी हमला किया, स्थिति संभालें ममता बनर्जी

शुक्ला के मुताबिक, अधिकारियों की मिलीभगत के बिना यह नहीं हो सकता. अब जांच होनी चाहिए कि इन अधिकारियों के ऊपर कौन लोग हैं? प्रदेश सरकार द्वारा एसटीएफ की जांच कराने से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘ एसटीएफ जांच निष्पक्ष नहीं हो सकती क्योंकि एसटीएफ प्रदेश सरकार के तहत आती है. अगर न्यायिक जांच होगी तो दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा.’’