नई दिल्ली: कांग्रेस ने गाजियाबाद में एक पत्रकार की हत्या की घटना को लेकर बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जवाब देने की मांग करते हुए कहा कि अगर वह प्रदेश के निवासियों की सुरक्षा के ‘राजधर्म’ का निर्वहन नहीं कर सकते तो पद से इस्तीफा दें. पार्टी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने यह दावा भी किया कि उत्तर प्रदेश ‘अपराध प्रदेश’ बन गया है और राजनीतिक संरक्षण मिलने के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं.Also Read - UP Assembly Election 2022: भाजपा ने जारी की कैंडिडेट्स की पहली लिस्ट, किसे मिला टिकट-कौन हुआ आउट, देखें List

उन्होंने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संवाददाताओं से कहा, ‘‘ गाजियाबाद में पत्रकार की हत्या ऐसी कोई अकेली घटना नहीं है. विक्रम जोशी ने पुलिस से मदद की गुहार की पर योगी जी की पुलिस ने तब तक कोई कार्यवाही नहीं की जब तक सोमवार रात को विक्रम जी के साथ वह वीभत्स कांड नहीं हो गया.’’ Also Read - CM Yogi ने दलित के घर भोजन किया, बोले- भ्रष्टाचार जिनके जीन्स में हो, वे सामाजिक न्याय की लड़ाई नहीं लड़ सकते

कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘एनसीआरबी के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन 46 महिलाओं का अपहरण होता है. 12 महिलाओं का प्रतिदिन बलात्कार होता है… प्रदेश में अपराध और जंगलराज का यह आलम है कि 2018 में 4018 क़त्ल हुए, यानी रोजाना 11 हत्याएं हुईं.’’ Also Read - UP Assembly Election 2022: चुनाव से पहले योगी के मंत्रियों-विधायकों का इस्तीफा जारी, धर्म सिंह सैनी ने भी छोड़ा साथ

उन्होंने यह दावा भी किया, ‘‘भाजपा के 312 विधायकों में से 114 यानी 37 प्रतिशत के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज हैं. इनमें से 83 तो जघन्य अपराध जैसे कि बलात्कार और हत्या के मामलों में आरोपी हैं.’’ सुप्रिया ने सवाल किया, ‘‘ इन तमाम चीजों पर योगी आदित्यनाथ चुप क्यों रहते हैं? ध्वस्त हुई क़ानून व्यवस्था के बीच में वह कहां हैं? इस गुंडा राज को समाप्त करने के लिए उनके पास कोई योजना या मंशा है भी या नहीं?’’

उन्होंने कहा, ‘‘योगी आदित्यनाथ को जनता ने अपने उत्पीड़न के लिए नहीं चुना है. नागरिकों की रक्षा उनका प्रथम कर्तव्य और राजधर्म है. अगर इनको पूरा करने में वह अक्षम हैं तो पद त्याग दें. हम किसी भी क़ीमत पर उत्तर प्रदेश को अपराध प्रदेश नहीं बनने देंगे.’’

गौरतलब है कि बदमाशों के हमले में गंभीर रूप से घायल हुए पत्रकार विक्रम जोशी की बुधवार तड़के मौत हो गई. जोशी ने 16 जुलाई को अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ के आरोप में शिकायत दर्ज कराई थी. बदमाशों ने विजय नगर इलाके में सोमवार रात करीब साढ़े 10 बजे पिटाई के बाद जोशी को गोली मार दी थी.