लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं. बुधवार को राज्य में कोविड-19 संक्रमितों की संख्या बढ़कर 361 हो गई. संक्रमितों में तबलीगी जमात के 195 लोग भी शामिल हैं. अभी तक इससे 38 जिले प्रभावित हैं. सबसे अधिक 64 कोरोना पॉजटिव मरीज आगरा में जिले में हैं. संक्रामक रोग विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ़ विकासेंदु अग्रवाल ने बताया कि अब तक कुल 361 केस सामने आए. इसमें सबसे अधिक 64 मरीज आगरा के हैं. इसके बाद गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) 62, मेरठ में 35, लखनऊ में 29, गजियाबाद में 23, मेरठ में 35, शामली में 17, सहारनपुर में 14 मरीज पाए गए हैं. Also Read - Coronavirus Lockdown: स्कूलों को फिर से खोलने की योजना पर अभिभावकों की बढ़ी चिंता, जानें क्या सरकार प्लानिंग

प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि 26 मरीजों का उपचार सफल रहा. पेशेंट पूलिंग का शासनादेश जारी कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि कई जिलों में एक से दो ही कोरोना पॉजिटिव मरीज का इलाज किया जा रहा है. ऐसे में यह देखने में आया है कि एक दो मरीजों के लिए पूरा मेडिकल सिस्टम प्रभावित होता है. इसी कारण मंडल कमिश्नर को यह आदेश दिया गया है कि जिन जिलों में एक से दो कोरोना पॉजिटीव पेशेंट का इलाज हो रहा हो तो उन्हें किसी एक ही बेहतर संसाधन वाले अस्पताल में शिट करा दिया जाए, जिससे मेडिकल सिस्टम पर अतिरिक्त दबाव ना पड़े. Also Read - Delhi-Haryana Border: दिल्ली-हरियाणा सीमा पार करने के लिए अब ट्रेवल पास की नहीं होगी जरूरत

प्रसाद ने बताया कि अब तक सामने आए कोरोना पॉजिटिव केसों में 0 से 20 वर्ष वर्ग के 16 प्रतिशत, 21 से 40 वर्ष उम्र वर्ग के 44 प्रतिशत, 41 से 60 वर्ष उम्र वर्ग के 27 प्रतिशत और 60 से अधिक उम्र के 13 प्रतिशत लोग शामिल हैं. Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग में हम ही जीतेंगे, दुनिया को हमारे डॉक्टरों और वैज्ञानिकों से काफी उम्मीद: पीएम नरेंद्र मोदी