बिजनौर (उत्तर प्रदेश): कोरोना टेस्ट नहीं कराने पर युवक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई. युवक दिल्ली से यूपी के बिजनौर स्थित अपने गांव लौटा था. उस पर चचेरे भाईयों ने ही हमला कर दिया. युवक दिल्ली से लौटा था. पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. घटना बिजनौर जिले के मलकपुर गांव में हुई. मंजीत सिंह (23) की शुक्रवार को मेरठ में इलाज के दौरान मौत हो गई. रविवार को नहटौर पुलिस स्टेशन में मृतक कल्याण सिंह के पिता द्वारा दायर एक शिकायत पर मंजीत के चचेरे भाई, कपिल और मनोज, उनकी मां पुनिया और मनोज की पत्नी डॉली के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. नहटौर थाना के एसएचओ सत्य प्रकाश सिंह ने कहा कि अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.Also Read - केरल में कोरोना वायरस के 23,676 नए मामले आए, 148 और मौतें हुईं

खबरों के मुताबिक मंजीत की मौत सिर में चोट लगने के कारण हुई. उपचार के दौरान डॉक्टरों द्वारा कोरोना वायरस परीक्षण के लिए उनका नमूना एकत्र नहीं किया गया था. बिजनौर के एडिशनल एसपी संजय कुमार ने कहा, 19 मई को दिल्ली से बिजनौर पहुंचने पर उसकी थर्मल स्क्रीनिंग की थी. रिपोर्ट नकारात्मक थी इसलिए उसका नमूना एकत्र नहीं किया गया था. Also Read - गुजरात में कोरोना वायरस के 17 नए मामले, किसी भी मरीज ने नहीं तोड़ा दम

एसएचओ सत्य प्रकाश सिंह ने कहा, “उसकी वापसी के बाद से, कपिल और मनोज नियमित रूप से मंजीत से अपना परीक्षण करवाने के लिए कह रहे थे. गुरुवार को चचेरे भाइयों ने फिर से मंजीत को अपना परीक्षण करवाने के लिए कहा, जिसके बाद उनके बीच एक बहस शुरू हो गई.” सिंह ने कहा, “आरोपी लाठियां लेकर मंजीत को मारने लगे. उसके सिर और कंधे पर चोटें आईं. जब मंजीत बेहोश हो गया, तो उसे उसके माता-पिता ने सरकारी अस्पताल पहुंचाया, जहां उसने एक दिन बाद दम तोड़ दिया.” बिजनौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. विजय यादव ने कहा कि उन्हें इस मामले के बारे में कोई जानकारी नहीं है. Also Read - इस राज्य में 24 घंटे का कोरोना कर्फ्यू हटाया गया, कई बंद इलाके खोले गए