लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड—19 संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित आगरा, मेरठ और कानपुर जिलों में हालात का जायजा लेने के लिये एक—एक उच्च स्तरीय चिकित्सकीय दल भेजने के निर्देश दिये हैं. मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन व्यवस्था की रविवार को यहां उच्च स्तरीय समीक्षा करते हुए कहा कि संक्रमण को फैलने से रोकने तथा परिस्थिति पर निगरानी रखने के लिए आगरा, मेरठ और कानपुर जिलों में एक—एक उच्च स्तरीय चिकित्सकीय दल भेजा जाए. Also Read - Lockdown5.0: नोएडा मेट्रो 1 जून से चलने की तैयारी में! इन शर्तों पर कर पाएंगे सफर

उन्होंने औद्योगिक विकास विभाग के प्रमुख सचिव आलोक कुमार तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव रजनीश दुबे को आगरा में शिविर करने के निर्देश दिए. उनके साथ पीजीआई से एक वरिष्ठ डॉक्टर तथा पुलिस अधिकारी भी रहेंगे. उन्होंने मेरठ में सिंचाई विभाग के प्रमुख सचिव टी वेंकटेश के साथ चिकित्सा शिक्षा, स्वास्थ्य एवं पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को समीक्षा करने को कहा. Also Read - इस राज्य में खुलेंगे मंदिर-मस्जिद, सीएम ने पूजा करने या नमाज़ पढ़ने के लिए रखी ये शर्त

गौरतलब है कि इस वक्त प्रदेश में संक्रमित उन की लोगों की सर्वाधिक संख्या आगरा, कानपुर नगर और मेरठ में है, जिनका अभी उपचार चल रहा है. शनिवार रात तक के आंकड़ों के मुताबिक आगरा में 455, कानपुर नगर में 235 और मेरठ में 144 संक्रमित लोगों उपचार चल रहा है. आगरा में 21, मेरठ में 11 और कानपुर में अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है. योगी ने दोहराया कि विभिन्न राज्यों से उत्तर प्रदेश लौटने वाले प्रवासियों की एक सूची उपलब्ध करायी जाए, ताकि उन्हें सुरक्षित वापस लाया जा सके. Also Read - IND vs AUS: ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर एक ही वेन्‍यू पर हो सकते हैं सभी मैच, CA ने कहा-हम...

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाए. अन्तरराज्यीय तथा अन्तरराष्ट्रीय सीमाओं पर विशेष सतर्कता बरती जाए. साथ ही, विभिन्न राज्यों की सीमाओं से कोई भी व्यक्ति पैदल न चले और हर हाल में पलायन को रोका जाए.

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि सभी सामुदायिक रसोइयों में साफ-सफाई सुनिश्चित की जाए. साथ ही, उन्हें संक्रमणपुक्त भी किया जाए. उन्होंने घर तक सामान पहुंचाने की व्यवस्था को मजबूत करने के निर्देश दिए. योगी ने संक्रमण की जांच संबंधी क्षमता बढ़ाने के लिए कहा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलों में मौजूद वेंटिलेटरों को सक्रिय किया जाए. इसके अलावा एनेस्थीशिया डॉक्टरों की सूची भी बना ली जाए. उन्होंने आपात चिकित्सकीय सेवाएं स्वास्थ्य विभाग द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार संचालित करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि पुलिस बल को कोविड—19 संक्रमण से बचाने के लिए हर सम्भव प्रयास किए जाएं.