वाराणसी: बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के आयुर्वेद विभाग के एक सेवानिवृत्त प्रोफेसर की सोमवार को बीएचयू अस्पताल के सुपर-स्पेशिलिटी विंग में कोरोना संक्रमण से निधन हो गया. वाराणसी में कोरोना से यह चौथी मौत है. जिलाधिकारी ने यह जानकारी मंगलवार को दी. जिला मजिस्ट्रेट कौशल राज शर्मा ने पुष्टि की, “शिवाला इलाके में रहने वाले 80 वर्षीय सेवानिवृत्त प्रोफेसर को उनके स्वास्थ्य में आई तेज गिरावट के बाद बीएचयू के सुपर-स्पेशिलिटी विंग में भर्ती कराया गया था. दो दिन पहले उनका कोविड-19 परीक्षण पॉजिटिव आया था.” Also Read - शादी के तुरंत बाद दूल्‍हा-दुल्‍हन सीधे पहुंचे अस्‍पताल, कोरोना टेस्‍ट कराने के बाद पहुंचे घर

प्रोफेसर बीएचयू के आयुर्वेद विभाग के पूर्व प्रमुख रह चुके थे. इससे पहले कोरोना वायरस से संक्रमित 73 वर्षीय सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी, जो लंका क्षेत्र के निवासी थे, उनकी 16 मई को बीएचयू अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई में मौत हो गई थी. वहीं लल्लापुरा क्षेत्र की हाइपोथायरायडिज्म, उच्च रक्तचाप और मधुमेह की मरीज 58 वर्षीय एक महिला को श्वसन तंत्र में तीव्र संक्रमण होने पर बीएचयू अस्पताल में भर्ती कराया गया था. दस दिन बाद 14 मई को उनकी मौत हो गई. Also Read - कोरोना के बढ़ते मामले या सीमा पर तनाव है वजह! भारत से अपने नागरिकों को निकालेगा चीन

इससे भी पहले कोलकाता से लौटे एक कोरोना संक्रमित व्यापारी की 3 अप्रैल को मौत हो गई थी, प्रयोगशाला से उसकी परीक्षण रिपोर्ट 4 अप्रैल को आई थी, जिससे पता चला कि वह कोरोना पॉजिटिव था. बाद में, उसकी पत्नी और बहू का भी परीक्षण पॉजिटिव आया, हालांकि अब वे दोनों ठीक हो गईं हैं और उन्हें डीडीयू जिला अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. Also Read - देश में दूसरे नंबर पर है कोरोना के मामलों में ये राज्‍य, कुल संक्रमित 17 हजार के पार