गौतमबुद्ध नगर/बरेली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर (नोएडा, ग्रेटर नोएडा) जिले में कोरोना के मरीजों की संख्या घटने या थमने का नाम नहीं ले रही है. रविवार को यहां चार नए कोरोना पॉजिटिव मिलने की पुष्टि हुई. इसी के साथ अब जिले में कोरोना के मरीजों की संख्या 27 से बढ़कर 31 हो गई है. गौतमबुद्ध नगर के डीएम बी.एन. सिंह ने आईएएनएस से बातचीत में रविवार कहा, “जिले में शनिवार तक कोरोना पॉजिटिव पाए जाने वाले मरीजों की संख्या 27 थी. रविवार को पता चला कि जिले में चार नए कोरोना मरीज मिले हैं.” जिलाधिकारी ने आगे कहा, “कोरोना पॉजिटिव पाए गए सभी चारों मरीजों को चिकित्सकों की मदद से अलग-अलग करके रखा गया है. उनके ऊपर दिन रात निगरानी रखी जा रही है.” Also Read - अब दिल्ली के किसी भी स्टेशन पर नहीं मिलेंगे प्लेटफॉर्म टिकट, जानिए क्यों लिया गया ये फैसला

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को गौतमबुद्ध नगर जिले में कोरोना के मामलों को छिपाने के आरोप में एक कंपनी प्रबंधन के खिलाफ ही एफआईआर दर्ज करने के आदेश दे दिए थे. डीएम गौतमबुद्ध नगर बी.एन. सिंह ने कहा, “रविवार को दादरी के गांव विश्नौली में एक कोरोना पॉजिटिव मिला है. सूचना मिलते ही पूरे इलाके को संक्रमण से बचाने के लिए 28 मार्च 2020 से 30 मार्च 2020 दोपहर एक बजे तक क लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है.” जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी के अधिकृत बयान के मुताबिक, “शनिवार को चार नए मरीज मिलने की जानकारी सामने आई थी. इनमें दो-तीन लोग विदेश से आए थे. बाकियों में कोरोना का संक्रमण विदेशों से लौटे लोगों के जरिए हुआ था. एक कंपनी के तो 13 लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.” Also Read - कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के चलते एम्स-दिल्ली की ओपीडी 22 अप्रैल से बंद होगी

जिला सीएमओ के आदेश पर जिस कंपनी प्रबंधन के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश हुए थे, उस कंपनी का प्रबंध निदेशक खुद ही विदेश से कोरोना संक्रमित होकर लौटा था. इतना ही नहीं, उसका स्टाफ ऑफिसर भी जांच में कोरोना संक्रमित पाया गया. लापरवाही की रही सही कसर इस कंपनी ने तब पूरी कर दी, जब उसने विदेशी ऑडिटर द्वारा कंपनी में आकर तीन दिनों तक ऑडिट किए जाने की बात को छिपाया. खबर पुख्ता होते ही जिला प्रशासन ने कंपनी को सील कर दिया था. उत्तर प्रदेश के बरेली शहर में भी रविवार को कोरोना पॉजिटिव का पहला मामला सामने आया. यहां सुभाष नगर मुहल्ले में रहने वाले एक युवक में कोरोना के लक्षण मिले. यह युवक तीन दिन पहले ही नोएडा से बरेली अपने घर पहुंचा था. संदेह होने पर युवक का सैंपल जांच के लिए भेजा गया था. जिसमें कोरोना पॉजिटिव मिलने की पुष्टि हुई है. युवक अग्निशमन यंत्र बनाने वाली फैक्टरी (नोएडा) में कार्यरत बताया जाता है. Also Read - 1 मई से 18 के ऊपर सभी को लगेगी कोरोना वैक्सीन, मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

जिला प्रशासन ने एहतियातन संदिग्ध के परिवार के सभी सात लोगों को क्वोरंटीन कर दिया है. संदिग्ध को आसोलेशन में रखा गया है. साथ ही जिला प्रशासन ने तुरंत उन लोगों की सूची बनाने को कहा है, युवक जिन-जिन के संपर्क में आया था. उस सुभाष नगर मुहल्ले की भी निगरानी बढ़ा दी गई है, जिसमें युवक का घर है. पता चला है कि युवक नोएडा में लॉकडाउन के चलते फैक्टरी बंद होने के बाद बरेली (सुभाष नगर) पहुंचा था. अब तक जिले में जितने भी सैंपल लिए गए थे, वे सभी नेगेटिव ही मिले थे. बरेली के मंडलायुक्त (कमिश्नर) रणवीर प्रसाद आईएएनएस से स्वीकार किया, “हां, महेश नाम के एक युवक की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई है. प्रोटोकॉल के तहत कार्यवाही की जा रही है.”