मेरठ: जाली कोठी इलाके में मस्जिद को सील करने गई पुलिस अधिकारियों की टीम पर हमला करने के चलते मस्जिद के इमाम सहित चार व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. यहां कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आने के बाद पुलिस मस्जिद को सील करने के लिए पहुंची थी. अधिकारी दिनेश शुक्ला ने कहा कि आरोपियों ने टीम पर पथराव किया, जिससे एक पुलिस अधिकारी और सिटी मजिस्ट्रेट घायल हो गए. सर्कल अधिकारी ने कहा, “24 फरवरी को महाराष्ट्र से तीन लोग स्थानीय जमात के एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे. वे दरियावाली मस्जिद में ठहरे थे. शुक्रवार को उनका कोरोनोवायरस परीक्षण पॉजिटिव आया है.” Also Read - कश्मीर: बडगाम में सुरक्षाबलों पर पथराव, घेराबंदी से बचकर भागे आतंकवादी

शनिवार को दिल्ली गेट पुलिस स्टेशन के प्रभारी रविंद्र सिंह और सिटी मजिस्ट्रेट सत्येंद्र कुमार सिंह पुलिस बल के साथ जाली कोठी इलाके में एक गली को सील करने गए थे. कुछ लोगों ने उनका विरोध करना शुरू कर दिया और पुलिस के खिलाफ नारे लगाए. इसके बाद उन्होंने पुलिस पर पथराव भी किया. सर्कल ऑफिसर ने बताया है कि इस घटना में सिटी मजिस्ट्रेट और थाना प्रभारी को चोटेंआईं हैं. Also Read - राम जन्मभूमि के आसपास हैं 10 मस्जिदें-दरगाहें, एक साथ होती है अजान और आरती, जानें क्या कहते हैं हिंदू और मुस्लिम

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने लखनऊ में कहा कि गिरफ्तार लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लागू किया जाएगा. एनएसए के तहत यदि अधिकारियों को लगता है कि व्यक्ति राष्ट्रीय सुरक्षा या कानून और व्यवस्था के लिए खतरा है तो वह बिना किसी आरोप के व्यक्ति को 12 महीने तक नजरबंदी में रख सकते हैं. इस बीच, कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अन्य पुलिस स्टेशनों से अतिरिक्त पुलिस बल को घटनास्थल पर भेजा गया. पुलिस अधीक्षक (शहर) अखिलेश नारायण सिंह ने कहा, “इलाके को सील किया जा रहा है. फिलहाल, इलाके में शांति है.” मेरठ उत्तर प्रदेश के उन 15 जिलों में से एक है जो कोरोना हॉटस्पॉट की श्रेणी में हैं. यहां के कुछ क्षेत्रों को सील भी कर दिया गया है. Also Read - प्रवासी मजदूरों ने पुलिसकर्मियों पर किया पथराव, 2 घायल, कई वाहन क्षतिग्रस्त