लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण से उपजे हालात को मंगलवार को राज्य आपदा (स्टेट डिजास्टर) घोषित कर दिया. वहीं, सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा, वैश्विक महामारी की रोकथाम में औषधि से अधिक अनुशासन की आवश्यकता है. अतः स्व-अनुशासित होकर घर में रहें. Also Read - Covid-19 Fight: कोरोना से लड़ने के लिए केंद्र सरकार का एक और बड़ा कदम, गठित हुईं 11 टीमें

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने उत्तर प्रदेश में Coronavirus Pandemic को ‘आपदा’ के रूप में घोषित करने की अनुमति दी. Also Read - coronavirus से भारत की इकोनॉमी को अब तक का सबसे बड़ा झटका, मूडीज ने GDP रेट 2.5 फीसदी किया

मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा, राष्ट्रहित, समाजहित, मानवताहित के दृष्टिगत कदापि यात्रा न करें. कोरोना संक्रमण की रोकथाम में आपका यह सहयोग महत्वपूर्ण व निर्णायक साबित होगा. कोरोना हारेगा, भारत जीतेगा. Also Read - जोस बटलर ने IPL को बताया विश्व क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट, जताई छोटे रूप में आयोजन की उम्मीद

राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश सरकार ने कोरोना की स्थिति को राज्य आपदा घोषित किया है. इमरजेंसी मेडिकल उपकरण और कोरोना से संबंधित मेडिकल सामग्री के लिए खरीद प्रक्रिया में ढील दी गई है. उन्होंने बताया कि शुरुआत में यह ढील एक महीने के लिए है. इस संबंध में एक औपचारिक सरकारी आदेश जारी कर दिया गया है.

इससे पहले मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा, कल से प्रारंभ हो रहे 03 दिवसीय जनता कर्फ्यू (लॉकडाउन) में प्रदेश की 23 करोड़ जनता-जनार्दन स्वतः स्फूर्त बंदी में अपना अभूतपूर्व सहयोग देगी, यह मेरी अपील है. प्रदेश सरकार आपके उत्तम स्वास्थ्य, आपकी सुरक्षा और आपकी सुविधा के लिए हर क्षण- हर पल तत्पर है.