बरेली (उप्र): देश में कोरोना वायरस का असर तेजी से बढ़ता जा रहा है. ऐसे में हर राज्य अपने तरीके से सावधानी बरत रहे हैं. बरेली की शहदाना वाली दरगाह में राजस्थान, मध्यप्रदेश और अन्य राज्यों से आए कम से कम 200 लोगों को पुलिस ने यहां से हटाया. उन्हें चिकित्सकीय जांच के बाद घर भेजा गया और पृथक वास में रहने की हिदायत दी गई. Also Read - उत्तराखंड कैबिनेट को क्‍वारंटाइन में भेजने की जरूरत नहीं: स्वास्थ्य सचिव

बड़ी संख्या में पुलिस बल ने दरगाह पहुंचकर उसे खाली कराया. बताया जा रहा है कि ये लोग पिछले 10 दिनों से यहां ठहरे हुए थे. दरगाह के मुतवल्ली वाजिद अली ने बताया कि दरगाह में राजस्थान और मध्यप्रदेश समेत कई जगहों के करीब 200 लोग 10 दिनों से मौजूद थे. Also Read - Coronavirus Lockdown: स्कूलों को फिर से खोलने की योजना पर अभिभावकों की बढ़ी चिंता, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग

उन्होंने दावा किया कि जब जनता कर्फ्यू लगा तो उसके अगले दिन 23 मार्च को उन्होंने बारादरी थाने में पत्र लिखकर दरगाह में मौजूद लोगों को उनके घर भिजवाने का अनुरोध किया था, लेकिन किसी ने इस बात का संज्ञान नहीं
लिया. उन्होंने बताया कि शुक्रवार देर रात एसपी सिटी रविन्द्र कुमार, एएसपी अभिषेक वर्मा और एडीएम ने थाना बारादरी पुलिस के सहयोग से दरगाह को खाली करवाया. Also Read - Noida: गार्मेंट कंपनी में लगी भीषण आग, एक दर्जन दमकल गाड़ियों को घंटों करनी पड़ी मशक्कत

एएसपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि दरगाह पर लोग इलाज कराने के लिए आते हैं. यहां पर करीब 200 से अधिक लोग मौजूद थे जिन्हें स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच करवाकर निजी वाहनों से उनके घरों में भेज दिया है. इन
लोगों को अपने-अपने घरों में पृथक रहने को कहा गया है.

साथ ही एएसपी ने वाजिद अली के उस दावे को भी खारिज किया जिसमें उन्होंने कहा था कि दरगाह खाली कराने के लिए उन्होंने 23 मार्च को एक चिट्ठी लिखी थी.

(इनपुट भाषा)