नई दिल्‍ली: देश में कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की जिंदगी में जुटे डॉक्‍टर और मेडिकल स्‍टाफ और पुलिस टीमों पर हमले थम नहीं रहे हैं. ऐसा ही वाकया मुरादाबाद में हुआ है, जहां एक कोरोना वायरस से संदिग्‍ध संक्रमित व्‍यक्‍ति को लेने गई मेडिकल और पुलिस टीम पर पथराव हुआ है. अभी भी वहां डॉक्‍टरों की टीम फंसी हुई और पुलिस उन्‍हें निकालने की कोशिश में लगी हुई है. Also Read - पीएम मोदी बोले- भारत ने सबसे पहले लगाया लॉकडाउन इसलिए आ रही करोना के मामलों में कमी

वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुरादाबाद में हुई घटना का संज्ञान लेते हुए कहा-डॉक्टर्स व सभी पुलिस अधिकारी व पुलिसकर्मी इस आपदा की घड़ी में दिन-रात सेवा कार्य में जुटे हैं.  दोषी की राजसात संप‍त्‍त‍ि से  नुकसान की भरपाई की जाएगी. जिला पुलिस प्रशासन ऐसे उपद्रवी तत्वों को तत्काल चिन्हित करे और प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा के साथ उपद्रवी तत्वों पर पूरी सख्ती बरते. Also Read - कोल्ड चेन की कमी से दुनिया में तीन अरब लोगों तक कोरोना टीका पहुंचने में हो सकती है देर

मुरादाबाद में अचानक हुए इस पथराव में घायल एम्‍बुलेंस के ड्राइवर ने बताया कि जब हमारी टीम और पुलिस कोविड 19 के संदिग्‍ध मरीज को लेकर निकलने लगी तभी अचानक भीड़ आ जुटी और पथराव शुरू हो गया. कुछ डॉक्‍टर अभी भी घायल हैं. हम जख्‍मी हैं. Also Read - कोरोना को मात देने के बाद जेनेलिया ने संक्रमण से बचने का बताया एकमात्र तरीका, कहा- अब मुश्किल...

वहींं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुरादाबाद में हुई घटना का संज्ञान लेते हुए कहा-स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर्स व कर्मी सभी सफाई अभियान से जुड़े अधिकारी/कर्मचारी, सुरक्षा में लगे सभी पुलिस अधिकारी व पुलिसकर्मी इस आपदा की घड़ी में दिन-रात सेवा कार्य में जुटे हैं.

दोषी व्यक्तियों द्वारा की गई राजकीय सम्पत्ति के नुकसान की भरपाई उनसे सख़्ती से की जाएगी. जिला पुलिस प्रशासन ऐसे उपद्रवी तत्वों को तत्काल चिन्हित करे और प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा के साथ उपद्रवी तत्वों पर पूरी सख्ती बरते.
बता दें कि इससे पहले मेरठ में भी पुलिस टीम पर हमला किया गया था, जब वह एक मस्जिद में रुके जमातियों में से एक कोरोना वायरस से पॉजिटिव निकला था. इसके बाद मस्जिद को सील करने गई पुलिस टीम पर हमला किया गया था.