सहारनपुर: भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन वालिया की मौत के मामले में खुलासा करते हुए पुलिस ने मंगलवार को दावा किया कि यह हत्या का नहीं बल्कि उसके साथी द्वारा दुर्घटनावश गोली चलने का मामला है. डीआईजी शरद सचान ने बताया कि सचिन वालिया की हत्या नहीं की गई बल्कि एक साथी द्वारा तमंचा देखने के दौरान गोली चलने से उसकी मौत हुई. Also Read - ED सीएए विरोधी प्रदर्शनों की जांच करेगा तेज, पीएफआई-भीम आर्मी के 'लिंक' की हो रही छानबीन

पुलिस ने अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया है और उसकी निशानदेही पर तमंचा भी एक अन्य के घर से बरामद कर लिया गया है. डीआईजी ने इस मामले का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को 25 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है. सचान ने बताया कि नौ मई को महाराण प्रताप जयंती के अवसर पर सचिन की संदिग्ध परिस्थिति में गोली लगने से मौत हो गई थी. Also Read - UP News: भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर का दावा- काफिले पर हुई गोलीबारी, पुलिस ने किया इनकार

उन्होंने बताया कि आज पुलिस टीम ने प्रवीण उर्फ माण्डा पुत्र पूरन सिंह निवासी रामनगर थाना देहात कोतवाली को गिरफ्तार कर लिया और उसकी निशानदेही पर घटना मे प्रयुक्त तमंचा मय खोखा कारतूस भी बरामद किया गया है. डीआईजी के अनुसार प्रवीण ने बताया कि घटना के दिन सचिन ने उसे फोन करके निहाल के घर बुलाया था. वहीं पर एक तमंचा रखा हुआ था, उसे देखने के दौरान ही ट्रिगर दबने से गोली चल गई जो सचिन वालिया को जा लगी. Also Read - Hathras News Updates: पीड़ित परिवार से मिलने Hathras गए Bhim Army चीफ चंद्रशेखर के खिलाफ FIR दर्ज

प्रवीण ने बताया कि वे सचिन को जिला चिकित्सालय लेकर पहुंचे थे लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया.