गोण्डा: जैसे- जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए कानून लाने की मांग तेज होती जा रही है और उस पर भाजपा नेताओं की तरह-तरह की प्रतिबद्धतापूर्ण प्रतिक्रियाओं के बीच इसी पार्टी की सांसद सावित्री बाई फुले ने एक नया शिगूफा छोड़ते हुए अयोध्या के विवादित स्थल पर भगवान बुद्ध की प्रतिमा प्रतिस्थापित करने की मांग सरकार से की है. Also Read - Mahant Nritya Gopal Das: महंत नृत्‍य गोपाल दास ICU में भर्ती, लेकिन हालत स्थिर... अगस्त में कोरोना को दी थी मात

Also Read - Ram Temple News: राम जन्मभूमि ट्रस्ट ने ADA को सौंपा मंदिर का नक्शा, जल्द शुरू होगा निर्माण कार्य

अब अल्पसंख्यक आयोग के प्रमुख ने कहा- अयोध्या में विवादित स्थल पर बने राम मंदिर Also Read - आज अदि्वतीय चुनौतियों से जूझ रही दुनिया को भगवान बुद्ध के आदर्शों मिल सकता है स्‍थाई समाधान : PM मोदी

अयोध्या बुद्ध का स्थान

बहराइच से भाजपा की सांसद सावित्री ने शुक्रवार रात यहां एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उच्च न्यायालय के आदेश पर अयोध्या में जब विवादित स्थल पर खुदाई की गई थी, तो वहां तथागत से जुड़े अवशेष निकले थे. इसलिए अयोध्या में तथागत बुद्ध की ही प्रतिमा स्थापित होनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘मैं साफ करना चाहती हूं कि बुद्ध का भारत था. अयोध्या बुद्ध का स्थान है इसलिए वहां तथागत बुद्ध की ही प्रतिमा स्थापित होनी चाहिए.’’

सीएम योगी बोले- अयोध्या में राम मंदिर था, है और रहेगा, सरयू किनारे बनेगी राम की दर्शनीय मूर्ति

संघ के प्रचारक एवं भाजपा के राज्य सभा सदस्य राकेश सिन्हा द्वारा राम मंदिर निर्माण के पक्ष में एक निजी विधेयक लाए जाने संबंधी सवाल पर पार्टी सांसद ने कहा, ‘‘भारत का संविधान धर्म निरपेक्ष है, जिसमें सभी धर्मों की सुरक्षा की गारंटी दी गई है. संविधान के तहत ही देश चलना चाहिए. सांसद या विधायक को भी संविधान के तहत ही चलना चाहिए.’’ भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब साधु-संत तथा विभिन्न तथाकथित हिन्दूवादी संगठन अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिये कानून बनाने के लिये सरकार पर लगातार दबाव बना रहे हैं. उच्चतम न्यायालय द्वारा अयोध्या के विवादित स्थल मामले पर नियमित सुनवाई अगले साल जनवरी तक टाले जाने के बाद से शुरू हुई इस कवायद के बाद भाजपा नेता राम मंदिर निर्माण को लेकर अपनी संकल्पबद्धता जाहिर करने वाले बयान दे रहे हैं. (इनपुट एजेंसी)