लखनऊ: उत्तर प्रदेश के देवरिया में बालिका मां विंध्यवासिनी बालिका संरक्षण गृह मामले में विपक्ष बीजेपी सरकार पर हमलावर हो गया है. बसपा प्रमुख मायावती ने मामले को लेकर कहा कि बिहार के मुजफ्फरपुर में मामला सामने आने के बाद यूपी में ही ऐसी घटना यह बताती है कि बीजेपी सरकारों में अराजकता है. बीजेपी की सरकारों में महिलाएं असुरक्षा है. बीजेपी सरकार में महिलाओं का सम्मान नहीं है. बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि बिना सरकारी संरक्षण के घिनौनी करतूत संभव नहीं है. उन्होंने इन मामले को लेकर कहा कि आज लोगों को बसपा सरकार का जमाना याद कर लेना चाहिए कि कैसे तत्परता से कार्रवाई होती थी. उन्होंने कई मामलों के उदाहरण भी दिए.Also Read - Uttar Pradesh Rural Economy: यूपी की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को 1 हजार करोड़ के निवेश से मिलेगी विकास की रफ्तार

Also Read - Coronavirus in Uttar Pradesh Update: यूपी में कम हो रहा कोरोना संक्रमण, 11 जिलों में नहीं दर्ज किए गए सक्रिय मामले

यूपी में मुजफ्फरपुर जैसा कांड: सीएम योगी ने देवरिया के डीएम को हटाया, जांच को दो सदस्यीय टीम भेजी Also Read - इंटरनेट सेंसेशन बना सीएम योगी का 'गुल्लू', तस्वीरें क्लिक करने के लिए दौड़ पड़े लोग

सीबीआई जांच की मांग

वहीँ, इस मामले में कांग्रेस-सपा ने मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. कांग्रेस प्रवक्ता जीशान हैदर ने कहा कि मामले में सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. यूपी सरकार को बिहार सरकार की तरह माफ़ी मांगनी चाहिए, लेकिन जल्दी. उन्होंने निष्पक्ष जांच के लिए सीबीआई को मामला सौपने की मांग की. सपा एमएलसी सुनील सिंह साजन ने कहा कि देवरिया यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर के बगल का जिला है. फिर भी वहां ऐसा होता रहा, ये शर्मनाक है. सरकार रेप के आरोपियों को बचाने में माहिर है, इसलिए इस घटना की सीबीआई से जांच कराई जाए. इस मामले को सपा नेताओं ने लखनऊ में प्रदर्शन भी किया. उन्होंने इस मामले में सख्त कार्रवाई की मांग की है.

देवरिया में मुजफ्फरपुर जैसा कांड, बालिका गृह में सेक्स रैकेट चलाने का आरोप, लड़कियों ने सुनाई आपबीती

ये है पूरा मामला

देवरिया जिले में मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाजसेवा संस्थान द्वारा संचालित बालिका गृह में नाबालिग लड़कियों के साथ अमानवीयता और सेक्स रैकेट चलाए जाने का मामला सामने आया है. इस घटना के बाद शेल्टर होम से 24 लड़कियों को छुड़ाया गया है, 18 अब तक लापता हैं. मामला सामने आने के बाद शासन द्वारा जिला प्रशासन पर कार्यवाही की गई है. देवरिया के डीएम अजीत कुमार को हटा दिया गया है. इसके साथ ही शासन ने लखनऊ से दो सदस्यीय टीम भी जांच के लिए भेजी गई है. टीम आज ही मामले की शुरूआती जांच कर रिपोर्ट भेजेगी. ये कार्यवाही सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश पर हुई है.

ब्लॉगः हमारा खून क्यों नहीं खौलता मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की बच्चियों के कुचले जाने पर

ऐसे हुआ करतूत का खुलासा

बताया जा रहा है कि आज सुबह एक लड़की बालिका गृह से किसी तरह से भाग निकली. लड़की सीधे पुलिस के पास पहुंची और उसने पुलिस को घटनाक्रमों के बारे बताया. उसके आरोप सुन पुलिस भी सकते में आ गई. भागकर पहुंची लड़की के अनुसार, लड़कियां रात में अलग-अलग गाड़ियों से रोज ले जाती थीं. उन्हें नकाब पहनाकर ले जाता. इसके बाद वह रोते हुए वापस लौटती थीं. उनके साथ गलत व्यवहार होता था. बालिका गृह में उनका झाड़ू-पोंछा और बर्तन भी धुलवाए जाते थे. देवरिया एसपी रोहन पी कनय ने बताया कि बालिका गृह को अवैध घोषित किया गया था और इसका चाल-चलन भी ठीक नहीं था.