देवरिया: यूपी के देवरिया में स्थित मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान द्वारा संचालित बालिका गृह में काफी समय से लड़कियों के साथ रेप किया जा रहा था. यहां 15 से 18 साल की लड़कियां रहती थीं. 24 लड़कियों को छुड़ा लिया गया है, जबकि 18 अब तक गायब हैं. उत्तर प्रदेश के आईजी लॉ एंड ऑर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि लड़कियों का मेडिकल चेकअप कराया जा रहा है. बालिका गृह की संचालिका ने पुलिस के सामने हाजिर हो गई है. यहां उसने सवाल पूछने पर पत्रकारों से कहा कि ‘क्या आप यहां नए हैं. अगर नहीं तो अपनी टीआरपी कहीं और बढ़ाइए.’

यूपी में मुजफ्फरपुर जैसा कांड: सीएम योगी ने देवरिया के डीएम को हटाया, जांच को दो सदस्यीय टीम भेजी

सजा-धजाकर ले जाया जाता था, बड़ी लड़कियों के साथ गलत होता था
इनमें से कई लड़कियों ने जो आपबीती बताई है, वह रोंगटे खड़ी कर देने वाली है. एक नाबालिग लड़की बताती है कि उन्हें तैयार होने को कहा जाता था. सब सज-धज जाती थीं. इसके बाद शाम 4 से 6 बजे के बीच चार पहिया (कार) आती थी. और ले जाते थे. देवरिया से गोरखपुर भी ले जाते थे. गोरखपुर में होटल/कमरों में ले जाते थे. मेरे साथ कुछ नहीं करते थे, लेकिन बड़ी-बड़ी सब लड़कियों के साथ गलत काम होता था. मुझे पता नहीं क्यों ले जाते थे.’ वह बताती है कि उसे माह में पांच-छह बार ले जाया जाता था. पीछे कुर्सी पर बैठी लड़की की ओर इशारा करते हुए वह कहती है कि इसके साथ भी गलत काम होता था. वो लोग सब बड़ी लड़कियों के साथ करते थे.’ गाड़ी चलाने वाला और साथ में रहने वाला अपना नाम नहीं बताता था. पूछा फिर भी कभी नाम नहीं बताया. बड़ी मैम भी साथ जाती थी. वह बताती है कि पैसा भी देते थे. एक बार में जाने और गलत काम के बाद सबको 500 से 1000 रुपए देते थे.

सुबह लौटती तो रोती रहती थी
वहीं, एक दूसरी लड़की बताती है कि दीदी बाहर जाती थी. बड़ी मैम ले जाती थीं. काली, सफेद कभी लाल कार आती थी. सुबह लौटती थी तो कुछ नहीं कहती थीं. बस रोती रहती थी. पूछते थे तो कुछ नहीं बताती थीं. आंखें सूजी रहती थी. हम वहां काम करते थे. झाड़ू पोंछा बर्तन करती थी.

पत्रकारों से बोलीं अधीक्षिका- अपनी टीआरपी वहीं करिए, मुझे कुछ नहीं कहना
वहीँ, पहले ही अरेस्ट की जा चुकी बालिका गृह की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी की बेटी, जो कि बालिका गृह की अधीक्षिका है, ने पुलिस के समक्ष समर्पण कर दिया है. यहां पत्रकारों ने उससे बात करने की कोशिश की तो उसने ठीक से जवाब नहीं दिए. अधीक्षिका ने इस मामले में कहा कि सब झूठ है. कुछ भी कहना नहीं चाहूंगी. ये जो भी कुछ है झूठ है. आपका काम है सच बाहर निकालना. आपकी मम्मी पर लड़कियां ही आरोप लगा रही हैं कि लड़कियों को बाहर ले जाया जाता था, इस सवाल पर वह पत्रकारों से कहती है कि ‘आप यहां नए हैं क्या. अगर नहीं तो अपनी टीआरपी वहीं करिए. मुझे कुछ नहीं कहना है.’

यूपी में मुजफ्फरपुर जैसा कांड: पूरे राज्य के बालिका गृहों में निरीक्षण, 12 घंटे में रिपोर्ट तलब

मान्यता रद्द थी तो फंड कहां से आ रहा था
इस घटना के बाद कई सवालों के साथ एक बड़ा सवाल ये भी खड़ा हुआ कि जब 2017 में ही इसकी मान्यता रद्द कर दी गई थी, तो इसके बाद भी पुलिस लड़कियों को यहां लगातार क्यों भेजती रही. बड़ी संख्या में लड़कियां आश्रय के लिए यहां भेजी गईं. सवाल यह भी है कि मान्यता नहीं होने के कारण सरकार से फंड मिलना बंद हो गया था फिर खर्च के लिए पैसा कहां से आ रहा था. लड़कियों के रहने खाने का इंतजाम कैसे हो रहा था.

18 लड़कियां अब तक गायब, ऐसे हुआ करतूत का खुलासा
5 अगस्त, 2018 दिन रविवार को पूरा मामला सामने आया था. पुलिस ने चार से पांच घंटे की छापेमारी की और गिरजा त्रिपाठी के चंगुल से 24 लड़कियों को मुक्त कराया था. यहां की 18 लड़कियां अब तक गायब हैं. देवरिया एसपी रोहन पी कनय ने बताया कि बालिका गृह को अवैध घोषित किया गया था और इसका चाल-चलन भी ठीक नहीं था. एसपी ने बताया कि पहले ही आशंका थी कि कुछ गलत हो रहा है. 5 अगस्त को सुबह एक लड़की बालिका गृह से किसी तरह से भाग निकली. लड़की सीधे पुलिस के पास पहुंची और उसने पुलिस को घटनाक्रमों के बारे बताया.

यूपी में मुजफ्फरपुर जैसा कांड: मायावती बोलीं- ‘BJP शासन में महिलाओं की दुर्दशा, मेरी सरकार याद करो’

बाल कल्याण मंत्री ने कहा- आज शाम तक पहुंचेगी रिपोर्ट
यूपी सरकार की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि इस गृह को बंद करने के आदेश के बारे में शासन-प्रशासन को मालूम था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. साथ ही उन्‍होंने प्रदेश की पूर्ववर्ती बसपा, सपा सरकारों पर देवरिया में लड़कियों से जबरन वेश्यावृत्ति कराए जाने का संरक्षण देने का आरोप लगाया है. उन्होंने बताया कि जांच के लिए गई उनके विभाग की प्रमुख सचिव रेणुका कुमार और अपर पुलिस महानिदेशक (महिला हेल्पलाइन) अंजू गुप्ता की टीम ने पड़ताल की है. पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट आज शाम मुख्यमंत्री के पास पहुंचेगी.