लखनऊ: यूपी समेत पूरे देश में प्याज के दाम आसमान पर हैं. ऐसे में सरकार ने प्याज की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए विदेश से प्याज मंगाया, लेकिन वहां का प्याज लोगों को पंसद ही नहीं आ रहा है. अफगानिस्तान और तुर्की से आयात की गई प्याज का स्वाद कड़वा होने के कारण लोग इसे नहीं खरीद रहे हैं. जबकि देशी प्याज की तुलना में इसका दाम काफी कम है.

एक बार फिर प्याज के बढ़े भाव, खुदरा बाजार में बिक रहा 150 रुपये प्रति किलो

जी न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के संभल जिले की मंडियों में अफगानी और तुर्की की प्याज के प्रति लोगों की बेरुखी का आलम यह है की विदेशी प्याज का 30 रुपए प्रति किलो दाम होने पर भी खरीददार मिल रहे हैं. इसके चलते प्याज के कारोबारी और आढ़ती परेशान हैं. स्थानीय कारोबारियों और आढ़तियों ने केंद्र सरकार से विदेशी प्याज आयात करने की योजना को बंद करने की मांग की है. साथ ही सरकार से गुहार लगाई है कि वो स्थानीय यानी देशी प्याज की कीमतों को कम करने की कोशिश करे और जमाखोरों पर कार्रवाई करे, ताकि प्याज के दाम कम हो सके.

लोगों की थाली से गायब हुआ प्याज, बेंगलुरू में बिक रहा 200 रुपये किलो

इस कारण पसंद नहीं आ रहा अफगानिस्तान व तुर्की का प्याज
जी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान और तुर्की से आयात किए गए प्याज का आकार काफी बड़ा है. इसके अलावा खाने में यह प्याज भारतीय प्याज की तरह नहीं है. देशी प्याज के मुकाबले इस प्याज में कड़वापन है, इसके चलते लोग इसे एक बार खरीदने के बाद दूसरी बार नहीं खरीद रहे हैं. हालांकि विदेशी प्याज की कीमत काफी कम होने के चलते होटल और रेस्टॉरेंट में अफगानी और तुर्की की प्याज इस्तेमाल किया जा रहा है.

प्याज़ महंगा होने पर केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के खिलाफ कोर्ट में अपराधिक शिकायत दर्ज